अब गांवों के बच्चे फर्राटेदार अंगेजी बोलें तो चौंकिएगा नहीं, जानिए सरकार की यह योजना

0
249

अब गांवों के बच्चे फर्राटेदार अंगेजी बोलें तो चौंकिएगा नहीं। सरकार ने इसके लिए योजना बनाई है। पूरी जानकारी के लिए पढ़ें यह खबर।
पटना । अब गांवों के सरकारी स्कूलों के बच्चे भी फर्राटेदार अंग्रेजी बोलें तो चौंकिएगा नहीं। अंग्रेजी के बढ़ते महत्व को देखते हुए सरकार ने हर प्रखंड के एक सरकारी स्कूल में कान्वेंट स्कूल की तर्ज पर अंग्रेेजी माध्यम से पढ़ाई कराने का फैसला किया है। इस बाबत राज्य के शिक्षा निदेशक ने राज्य के सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों व जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों को पत्र लिखा है।
प्रखंडों में चरणवार खुलेंगे स्‍कूल
शहरों में रहने वाले बच्चों के लिए अंग्रेजी स्कूल कोई बड़ी बात नहीं, लेकिन ग्रामीण परिवेश के बच्चों के लिए आज भी अंग्रेजी स्कूल सपने जैसा ही है। शिक्षा विभाग ने अब ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को भी अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में शिक्षा देने की योजना बनाई है। शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी प्रखंडों में चरणवार अंग्रेजी माध्यम के स्कूल खोलने के लिए प्रस्ताव बनाने का जिम्मा बिहार शिक्षा परियोजना परिषद को सौंपा है।
फिलहाल हर प्रखंड में खुलेगा एक स्‍कूल
सूत्रों ने बताया कि प्रखंड के वैसे स्कूल जो अपने भवन में चल रहे हैं उनमें से किसी एक का चयन कर वहां अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई कराने की व्यवस्था की जाएगी। सूबे के 534 प्रखंडों में चरणवार स्कूल स्थापित किए जाएंगे।
जिलों से जानकारी मिलने के बाद बिहार शिक्षा परियोजना योजना के लिए प्रस्ताव बनाकर देगा। प्रस्ताव के आधार पर सरकार इस संबंध में यथोचित कार्यवाही सुनिश्चित करेगी।
जिलों से मांगी गई जानकारियां
परियोजना परिषद की ओर से सभी जिलों के शिक्षा पदाधिकारी और कार्यक्रम पदाधिकारियों को योजना से अवगत करते हुए स्कूलों के बारे में कुछ जानकारियां मांगी गई हैं। जिले में अंग्रेजी विषय के शिक्षकों की संख्या,
मैट्रिक प्रवेश पत्र में गलती हो तो जरूर पढ़ें यह खबर, सोमवार तक ऐसे करा सकते सुधार वर्तमान में विभिन्न प्रखंडों में स्कूलों की संख्या, स्कूलों की स्थिति और वहां पढ़ाने वाले शिक्षकों का ब्योरा भी मांगा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.