अमेरिका की भारत को धमकी, अगर टैक्स लगाया तो हम ऐसे देंगे जवाब

0
120

वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने चीन और भारत जैसे देशों को अमेरिकी टैरिफ के अनुसार नहीं चलने पर जवाबी टैक्स लगाने की धमकी दी है। ट्रंप भारत में हर्ली डेविडसन बाइक पर लगाए जा रहे 50 फीसदी ड्यूटी को लेकर काफी नाराज हैं और पिछले दिनों इसके खिलाफ कई बार बोल चुके हैं। हर्ली डेविडसन एक अमेरिकी कंपनी है और भारत में इसके बाइक्स की काफी बिक्री होती है। उन्होंने कहा, ‘यदि चीन हम पर 25% चार्ज लगाएगा और भारत 75 फीसदी चार्ज करेगा तो हम भी इसके जवाब में उतना ही टैक्स लगाएंगे।’ बढ़ा दी इंपोर्ट ड्यूटी…
स्टील पर 25% और एल्युमिनियम पर 10% इंपोर्ट ड्यूटी लगाई
– अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को स्टील और एल्युमिनियम पर आयात शुल्क लगा दिया। स्टील पर 25% और एल्युमिनियम पर 10% ड्यूटी लगाई गई है। इस पर 15 दिनों में अमल होगा। मेक्सिको और कनाडा के साथ नाफ्टा समझौते के तहत बातचीत चल रही है। इसलिए इन्हें अभी छूट दी गई है। दूसरे देश छूट चाहते हैं तो उन्हें अमेरिकी प्रशासन से बात करनी होगी। फैसले का दुनियाभर में विरोध हो रहा है। चीन, यूरोप समेत ज्यादातर देशों ने बदले में अमेरिकी गुड्स पर टैक्स लगाने या बढ़ाने की चेतावनी दी है।
ट्रंप ने कहा, ‘हमें नुकसान हुआ है’
आयात शुल्क लगाने के आदेश पर हस्ताक्षर के बाद ट्रंप ने कहा, ‘नौ महीने की जांच के बाद यह फैसला किया गया है। दशकों से हमारी इंडस्ट्री दूसरे देशों की अनुचित नीतियों का शिकार हुई है। हमारे अनेक प्लांट बंद हुए और लाखों लोग बेरोजगार हो गए। अनुचित व्यापार नीतियां आर्थिक ही नहीं, सुरक्षा के लिए भी खतरनाक हैं। ‘
चीन को भी घेरा
चीन का नाम लिए बगैर ट्रंप ने कहा- दूसरे देशों ने डिमांड से ज्यादा उत्पादन क्षमता के प्लांट लगा लिए हैं। सरकारी सब्सिडी के दम पर उन्होंने ग्लोबल मार्केट को सस्ते मेटल से भर दिया है। इससे उनके देशों में तो नई नौकरियां पैदा हुईं, लेकिन हमारे यहां खत्म हो गईं। अमेरिका सबसे ज्यादा स्टील कनाडा, ब्राजील, दक्षिण कोरिया, रूस, मेक्सिको, जापान और जर्मनी से आयात करता है। चीन की हिस्सेदारी 2.7% है। अमेरिका को एल्युमिनियम एक्सपोर्ट करने वालों में भी कनाडा सबसे ऊपर है। इसके बाद चीन और रूस हैं।
दुनिया के सबसे बड़े इंपोर्टर्स में से एक हैं हम
भारत के विश्व के भौगोलिक प्रदेशों और बड़े व्यापारिक समूहों के साथ व्यापारिक संबंध हैं जिसमें पश्चिमी यूरोप, पूर्वी यूरोप, पूर्ववर्ती सोवियत संघ (रूस) और बाल्टिक राज्य, एशिया, ओसीनिया, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका और लैटिन अमेरिका आते हैं। 1950-51 में भारत का कुल विदेश व्यापार (आयात एवं निर्यात) ₹ 1214 करोड़ था। तब से, यह समय-समय पर मंदी के साथ लगातार वृद्धि करने का साक्षी है। हालांकि, इस सब के बावजूद भारत दुनिया में सबसे आयात करने वाले देशों में शामिल है। 2016 में भारत 256 अरब डॉलर (करीब 17 लाख करोड़) का इंपोर्ट कर दुनिया का 18वां सबसे ज्यादा इंपोर्ट करने वाला देश रहा। इसके पहले 2014 में भारत 300 अरब डॉलर से ज्यादा इंपोर्ट कर 14वें नंबर पर था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here