रूस का हाइपरसॉनिक मिसाइल, जिसे रोकना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है!

0
520

रूस ने दुनिया की पहली हाइपरसॉनिक मिसाइल को सफलतापूर्वक लॉन्च किया. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपने भाषण में इसे एक आदर्श हथियार की संज्ञा दी. रूसी रक्षा विभाग ने 11 मार्च को एक वीडियो फुटेज रिलीज कर दावा किया कि उन्होंने ध्वनि की रफ्तार से 10 गुना तेज रफ्तार वाली सुपरसॉनिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया.नई पीढ़ी की ये मिसाइल कई मायनों में रूस को दुनिया से अलग और ताकतवर बनाती है. जानिए किन खासियतों से लैस है ये सुपरसॉनिक मिसाइल, जो अमेरिका-चीन जैसे मुल्कों के लिए भी बड़ा खतरा है.किसी भी डिफेंस सिस्टम को भेदने में सक्षम
रूस का दावा है कि अपनी तेज रफ्तार के कारण ये किसी भी डिफेंस सिस्टम को भेद सकती है. कोई भी इंटरसेप्टर इस मिसाइल का पता नहीं लगा सकता है. यही खासियत दुश्मनों के लिए सबसे बड़ा खतरा है.इस मिसाइल को रक्षा विशेषज्ञ किंझल मिसाइल कहते हैं जिसका अर्थ है दो धारी कटार. इस मिसाइल को फाइटर जेट MiG-31 के जरिए लॉन्च किया जा सकता है. जो हवा से हवा और जमीन दोनों पर हमला करने में सक्षम है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.