राहुल गांधी, नरेंद्र मोदी और अमित शाह के 60 फीसदी से ज्यादा ट्विटर फॉलोअर्स फेक

0
75

केजरीवाल के भी 51 फीसदी फॉलोअर्स हैं फेक
नई दिल्ली
राजनेताओं की लोकप्रियता का एक आधार सोशल मीडिया पर उनकी फॉलोइंग को भी माना जाने लगा है। ट्विटर भी इस मामले में खासा अहम है, लेकिन इस प्लैटफॉर्म पर मौजूद नेताओं के तमाम फॉलोअर्स के फेक होने की भी बात सामने आई है। नरेंद्र मोदी, अमित शाह और राहुल गांधी जैसे दिग्गज नेताओं के 60 पर्सेंट ज्यादा फॉलोअर फेक हैं। हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने ट्विटर ऑडिट की सहायता से यह पता लगाया है कि देश के शीर्ष नेताओं के कितने ट्विटर फॉलोअर फेक हैं।
बदलेगा राहुल गांधी के ट्विटर हैंडल का नाम?
कई महीने पहले ऑडिट किए गए अकाउंट्स में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के 61 लाख 15 हजार फॉलोअर हैं, जिनमें से 69 फीसदी फेक हैं। वहीं, 1 करोड़ से ज्यादा फॉलोअर्स वाले अमित शाह के 67 फीसदी फॉलोअर्स फेक हैं। सोशल मीडिया पर खासे ऐक्टिव रहने वाले कांग्रेस लीडर शशि थरूर के भी 62 फीसदी फॉलोअर फेक हैं।
पीएम मोदी के 61 पर्सेंट फॉलोअर्स फेक
फेक फॉलोअर्स की बात करें तो पीएम नरेंद्र मोदी इस मामले में 61 फीसदी के साथ चौथे स्थान पर हैं। दिल्ली के सीएम और ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल के भी आधे से ज्यादा फॉलोअर्स फेक हैं। राजनीति में नई एंट्री करने वाले साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत के 26 फीसदी ट्विटर फॉलोअर्स फेक हैं।
डॉनल्ड ट्रंप के 26 फीसदी फॉलोअर्स फर्जी
ट्विटर पर फेक फॉलोअर्स का मामला अकेले भारत में ही नहीं है, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी ऐसी तमाम हस्तियां हैं। ईसाइयों के सबसे बड़े धर्मगुरु पोप फ्रांसिस के भी 48 फीसदी ट्विटर फॉलोअर्स फेक हैं। हिलरी क्लिंटन के 31 फीसदी और डॉनल्ड ट्रंप के 26 फीसदी फॉलोअर्स फर्जी हैं।
कैसे काम करता है ट्विटर ऑडिट?
ट्विटर ऑडिट की वेबसाइट के मुताबिक इस टूल के जरिए 5,000 फॉलोअर्स का सैंपल लिया जाता है और उनका ट्वीटस, फॉलोअर्स, म्युचूअल फॉलोज और अन्य पैरामीटर्स के आधार पर आकलन किया जाता है। इससे पता चलता है कि कितने ट्विटर फॉलोअर फेक हैं और कितने वास्तविक। हालांकि यह एकदम सटीक तरीका नहीं है, लेकिन काफी हद तक इससे हकीकत पता चल सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here