वाराणसी में PM मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक, पुलिस ने दर्ज किया केस

0
228

वाराणसी में पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति
विकास पाठक, वाराणसी
फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के साथ सोमवार को वाराणसी के दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक के दो मामले सामने आने से हडकंप मचा हुआ है। मामले की गंभीरता को देखते हुए एक मामले में एफआईआर दर्ज की गई है जबकि दूसरे में जांच के आदेश दिए गए हैं।
जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री के वाराणसी दौरे के मिनट टू मिनट कार्यक्रम को सोशल मीडिया पर वायरल करने को एसपीजी ने गंभीरता से लेते हुए इसे सुरक्षा में चूक माना है। इसको लेकर एसपीजी की ओर से लिखित शिकायत मंगलवार को जिला प्रशासन को मिली है, जिसके बाद मामले की गंभीरता को देखते हुए वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर कैंट थाने में ऑफिशियल सीक्रेट ऐक्ट के सेक्शन 5 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। कैंट थाने के अतिरिक्त प्रभारी विष्णु प्रकाश श्रीवास्तव की तहरीर में अनुपम पांडेय नाम के एक शख्स को आरोपित किया गया है।
पीएम ने वाराणसी को दिया ‘होली गिफ्ट’, नई ट्रेन समेत तमाम योजनाओं की शुरुआत
मंडुवाडीह स्टेशन पर सुरक्षा में चूक का मामला
सुरक्षा मे चूक का दूसरा मामला मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन परिसर में पीएम मोदी के वाराणसी-पटना एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाए जाने के समय का है। जानकारी के मुताबिक पीएम का काफिला के स्टेशन परिसर में घुसने के दौरान तमाम लोग सुरक्षा के लिए बने प्रतिबंधित क्षेत्र में दाखिल हो गए थे। हालांकि एसपीजी ने तत्काल भीड़ को रोक लिया था। इसी मामले में भीड़ के स्टेशन परिसर में घुसने को एसपीजी ने इसे सुरक्षा में चूक मानते हुए संबंधित अधिकारियों से स्पष्टीकरण देने को कहा है, जिसके बाद सुरक्षा में तैनात रेलवे पुलिस के अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं।
सीएम योगी ने पूर्व में ही किया था आगाह
प्रधानमंत्री के दौरे से पूर्व बीते शुकवार को सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की थी। इस दौरान सीएम ने कहा था कि पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति की सुरक्षा में अगर कोई चूक होती है तो इसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई होगी। इसके बावजूद चूक होने को बड़ी लापरवाही माना जा रहा है।
मोदी-मैक्रों के वाराणसी से जाने के 24 घंटे बाद भी नहीं साफ हुए घाट
पहले भी हो चुकी है सुरक्षा में चूक
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा व्यवस्था में चूक का यह पहला मामला नहीं है। इससे पूर्व 23 दिसम्बर 2015 को जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे के साथ वाराणसी पहुंचे पीएम की कड़ी सुरक्षा के बावजूद कई लोग लोग वीवीआईपी काफिले में प्रवेश कर गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.