चारा घोटाला: लालू के खिलाफ आज आएगा एक और फैसला

0
127

बिहार के चारा घोटाले के दुमका मामले में आज रांची की विशेष सीबीआई अदालत की तरफ से एक और फैसला सुनाया जाएगा। इससे पहले, 6 मार्च को लालू यादव सहित अन्य आरोपी बिरसा मुंडा केन्द्रीय कारागार से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए सीबीआई की विशेष अदालत में पेश हुए थे।सुनवाई पूरी करते हुए अदालत ने फैसले की तिथि 15 मार्च निर्धारित की थी। दुमका मामले में लालू प्रसाद यादव के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र, पूर्व सांसद डॉक्टर आरके राणा, जगदीश शर्मा सहित 31 आरोपी हैं। लालू यादव पर चारा घोटाले के छह मामले दर्ज हैं। जिसमें से कुछ मामलों में सजा सुनाई जा चुकी है। लालू यादव फिलहाल रांची स्थित बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल में बंद हैं। डोरंडा कोषागार मामले में बुधवार को हुई सुनवाई
डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी से संबंधित मामले में बुधवार को सीबीआई के विशेष न्यायाधीश प्रदीप कुमार की अदालत में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान अदालत में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद समेत अन्य आरोपी पेश हुए। सीबीआई की ओर से विजिलेंस के तत्कालीन इंस्पेक्टर विद्धु भूषण द्विवेदी की गवाही दर्ज करायी गई। उन्होंने कोर्ट को बताया कि गौरी शंकर प्रसाद, मोहम्मद सईद, श्याम बिहारी समेत अन्य लोगों ने करोड़ों रुपए की अवैध निकासी कर ली थी। मामला जब उजागर हुआ तो निगरानी के जी नारायण को लिखित रूप से इन लोगों समेत पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद व भागवत झा के खिलाफ 24 मई 1992 को प्रतिवेदन दिया। प्रतिवेदन देखने के बाद उन्होंने कहा कि सीएम को आरोपी बनाए हैं। प्रतिवेदन के साथ आपकी नौकरी भी खतरे में पड़ जाएगी। सीएम का नाम हटाकर अन्य लोगों के बारे में प्रतिवेदन दें। सीएम का नाम हटाकर 27 मई 1992 को फिर से जी नारायण को प्रतिवेदन दिया, लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद 10 मार्च 1993 को डीपी ओझा से भी कार्रवाई की मांग की। प्रतिवेदन देखने के बाद उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पर आरोप लगाते हो, बर्बाद कर देंगे। इसी के बाद मुझे रांची से हटाकर पटना भेज दिया गया। वहां पर मुझे कोई काम भी नहीं दिया गया। उन्होंने निगरानी की संचिका की पहचान भी की। लालू समेत अन्य आरोपियों ने गवाह से जिरह भी की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here