दारुल उलूम देवबंद ने 3000 मदरसों को सरकारी अनुदान लेने से किया मना

0
48

फाइल फोटो
सहारनपुर
मदरसा मैनेजमेंट में किसी भी तरह के हस्तक्षेप से बचने के लिए दारुल उलूम देवबंद ने मदरसों को सरकारी अनुदान लेने से मना कर दिया है। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में स्थित मुस्लिम समुदाय के प्रसिद्ध शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने यह आदेश पूरे देश में उनसे संबद्ध 3,000 मदरसों को भेजा है।दारुल उलूम + का कहना है कि देश के मदरसों का अधिकांश खर्चा समुदाय के दान दिए गए रुपयों से चलता है। सरकारी अनुदान से सिर्फ शिक्षकों का वेतन दिया जाता है। अब समुदाय के दान से ही शिक्षकों का वेतन भी दिया जाएगा।दूसरे समुदायों से रिश्ते बेहतर करने की पहल
सोमवार को राबता-ए- मदरिस की बैठक में 8 बड़े फैसले लिए गए। मदरसा + मैनेजमेंट से कहा गया है कि वे उनके संपत्ति के रेकॉर्ड्स अपडेट रखें। दारुल उलूम ने पत्र भेजकर कहा है कि मदरसों में आयोजित होने वाले समारोह और त्योहारों पर दूसरे धर्म और समुदाय के लोगों को बुलाएं और उनसे मैत्रीपूर्ण संबंध बनाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here