तेजस्वी ने पूछे सीबीआई से तीखे सवाल, सुशील मोदी ने कहा- लालू का परिवार…

0
92

पटना : बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने एक बार फिर सीबीआई से तीखे सवाल पूछने के साथ नीतीश कुमार और सुशील मोदी पर निशाना साधा है. विधानसभा परिसर में पत्रकारों से बातचीत में तेजस्वी ने सीबीआई की भूमिका पर बड़ा सवाल खड़ा करते हुए कहा कि रेलवे ने भी साफ किया है कि रेलवे के होटल के लीज पर देने के मामले में उसके पास पूर्व केन्द्रीय रेल मंत्री के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं है. लेकिन इसके बावजूद राजनीतिक दुश्मनी के कारण लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार पर केंद्रीय एजेंसियां एकतरफा कार्रवाई कर रही है. तेजस्वी ने कहा कि इतना कुछ होने के बाद भी हम जांच में सहयोग कर रहे हैं.
तेजस्वी ने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सारा तानाबाना यह नीतीश कुमार को अपने साथ लाने के लिए बुना गया है. लालू यादव की छवि पर कीचड़ उछालकर नीतीश कुमार को अपने साथ लेने के लिए साजिश रची गयी. इसके बाद भी लालू यादव और उनका पूरा परिवार मजबूती के साथ अपनी लड़ाई लड़ रहा है. तेजस्वी यादव ने कहा कि किस मुंह से नीतीश कुमार और सुशील मोदी नैतिकता और ईमानदारी की बात कर रहे हैं. सबकुछ जानने के बाद भी नीतीश कुमार और उनकी सरकार ने चुप्पी साध रखी है. तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार को इस घोटाले के बारे में भी बिहार की जनता को बताना चाहिए.
आज सदन की कार्यवाही शुरू होते ही एक अखबार में रेलवे टेंडर घोटाले की छपी हुई सामग्री के हवाले से हंगामा हो गया. अखबार में यह लिखा गया है कि रेलवे टेंडर घोटाला मामले में सीबीआइ को लालू प्रसाद यादव के खिलाफ कोई सुबूत नहीं मिला है. इस खबर को लेकर आज बिहार विधानमंडल के बजट सत्र में पक्ष-विपक्ष में जमकर बयानबाजी हुई. तेजस्वी ने अखबार की खबर का हवाला देते हुए कहा कि जानबूझकर मेरे पिता लालू यादव और मेरे पूरे परिवार को तंग किया जा रहा है. जब सीबीआई के पास किसी तरह का सबूत नहीं है, तो क्यों इस तरह केस बनाकर हम सबको फंसाया गया. यह सब राजनीतिक साजिश के तहत किया जा रहा है.
तेजस्वी ने कहा कि उतब मैं तेरह चौदह साल का रहा होऊंगा, मुझे भी इसमें फंसाया गया. वहीं इस मामले पर राबड़ी देवी ने भी बयान देते हुए कहा कि तेजस्वी को झूठे मुकदमे में फंसाया गया और इसलिए राजद इस मसले को सदन में लगातार उठाता रहेगा. सदन में उठे इस मामले को लेकर सुशील मोदी ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि जो मामला सदन में उठाया गया है, उसका कोई आधार नहीं है और उसमें कोई दम नहीं है. लालू के खिलाफ पुख्ता सबूत है. अखबार में लिखा गया यह मामला पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन के समय का है और इन सब मामलों में लालू का परिवार कभी भी सुधरने वाला नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here