बिहारः सरफराज की जीत के बाद अररिया में लगे देश विरोधी नारे, दो आरोपी गिरफ्तार

0
149

नई दिल्ली,16 मार्च: अररिया लोकससभा उपचुनाव में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) की जीत का जश्न मना रहे तीन लोगों का एक वीडियो वायरल हो गया, जिसमें वे देश विरोधी नारे लगाते हुए नजर आए। इस मामले में पुलिस ने देर रात दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और एक की तलाश की जा रही है। यह नारे अररिया सीट से जीत दर्ज करने वाले सरफराज आलम के घर पास लगाए गए थे। पुलिस ने जिन नामजद दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है उनका नाम सुल्तान आजमी और शहजाद है, जबकि तीसरे का नाम आदिब रजा है। जिसकी तलाश की जा रही है।
खबरों के अनुसार, सोशल मीडिया के जरिए सामने आए वीडियो में कुछ लोग कथित तौर पर पाकिस्तान के समर्थन में और भारत के विरोध में नारे लगा रहे थे। कार्यकर्ताओं ने नारे लगाए, ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे। पाकिस्तान जिंदाबाद।’
आरोप है कि सरफराज आलम की जीत के तुरंत बाद उन्हीं के समर्थकों ने यह वीडियो बनाया था। मामले की शिकायत की बाद पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, अररिया के नवनिर्वाचित सांसद सरफराज का कहना कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।
इससे पहले सरफराज आलम से सवाल पूछा गया था तो उन्होंने इस पूरे मामले से पल्ला झाड़ते लिया था। उन्होंने इस वीडियो को भी गलत बताया बता दिया था। मामले की जांच के बाद पुलिस ने आरोपियों की पहचान कर ली और सरफराज के घर के पास का वीडियो निकला है। उधर, बुधवार को केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा था कि अररिया केवल सीमार्ती इलाका नहीं है। यह न केवल नेपाल और बंगाल से जुड़ा नहीं है बल्कि एक कट्टरपंथी विचार धारा को आरजेडी ने जन्म दिया है। यह बिहार के लिए ही खतरा नहीं है बल्कि देश के लिए भी खतरा होगा। वो आतंकवादियों का गढ़ बनेगा।
आपको बता दें अररिया लोकसभा सीट से दिवंगत सांसद तसलीमुद्दीन के बेटे सरफराज आलम विजयी हुए हैं। वह 61 हजार वोटों से जीते हैं। आरजेडी ने इमोशनल कार्ड खेलते हुए सरफराज आलम को टिकट दिया था। य‌‌ह थोड़ा दिलचस्प इसलिए भी हो गया था है कि पिता की मृत्यु तक, बल्कि अररिया लोकसभा उपचुनावों की घोषणा तक सरफराज जेडीयू की सीट पर अररिया जिले की ही जोकीहट विधानसभा सीट से विधायक थे। सरफराज आलम पर जनवरी 2015 में डिब्रूगढ़ राजधानी में महिला से छेड़छाड़ का अरोप है, जबकि जनवरी 2016 में पटना जीआरपी पुलिस की ओर से आईपीसी की धारा 341, 323, 290, 504 और 354A के तहत मामला दर्ज होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ओर से निलंबित भी किए गए थे। हालांक‌ि बाद में वे दोषमुक्त हो गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here