मेट्रो किराये में स्टूडेंट्स और वरिष्ठ नागरिकों को मिलेगी थोड़ी छूट?

0
105

नई दिल्ली
छात्रों, वरिष्ठ नागरिकों और शारीरिक रूप से चैलेंज्ड लोगों को मेट्रो के बढ़े किरायों से राहत मिल सकती है। शहरी कार्य मंत्रालय डीएमआरसी को पत्र लिखकर स्पेशल किरायों की संभावनाओं के बारे में जानना चाहता है।न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, हाउजिंग ऐंड अर्बन अफेयर्स मिनिस्टर हरदीप पुरी ने कहा, ‘कम से कम छात्रों और वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्पेशल किराये की सुविधा होनी चाहिए। हम इस बारे में दिल्ली मेट्रो के सामने प्रस्ताव रख चुके हैं। मैंने दिल्ली मेट्रो के प्रमुख से कोई रास्ता निकालने की बात कही है। हम ऐसा करेंगे।’मेट्रो के बढ़े किरायों को लेकर कॉलेज स्टूडेंट्स ने प्रदर्शन किए थे। ऐसे में अगर उनके लिए स्पेशल किराये का प्रस्ताव मंजूर कर लिया जाता है तो डीएमआरसी को आलोचनाओं से भी थोड़ी राहत मिलेगी।
10 अक्टूबर को हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने सबसे पहले इस बारे में बताया था कि केंद्र सरकार मेट्रो में रोजाना सफर करने वाले वरिष्ठ नागरिकों और स्टूडेंट्स को किराये के बोझ से थोड़ी राहत देने पर विचार कर रही है। यह खबर भी दी गई थी कि शहरी कार्य मंत्रालय किराये का बोझ कम करने के लिए छात्रों और वरिष्ठ नागरिकों के लिए मासिक पास जारी किए जाने की संभावना पर भी विचार किया जा रहा है।

पुरी ने कहा कि वह छात्रों, वरिष्ठ नागरिकों और फिजिकली चैलेंज्ड यात्रियों की समस्याएं समझते हैं। 2 जनवरी को पुरी ने लोक सभा में भी कहा था कि उनका मंत्रालय दिल्ली मेट्रो से किराये में कुछ राहत देने की सिफारिश करेगा। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था, ‘हमसे पूछा गया था कि क्या हम ऐसा कर रहे हैं? हमने कहा- यह हमारा काम नहीं है लेकिन अगली फेयर फिक्सेशन कमिटी के गठन के बाद हम इसकी सिफारिश करेंगे। हमें ऐसी सिफारिश से खुशी मिलेगी।’

डीएमआरसी केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार का जॉइंट वेंचर है और मेट्रो के किराये फेयर फिक्सेशन कमिटी तय करती है। बता दें कि दिल्ली सरकार ने किराया बढ़ोतरी का विरोध किया था और पिछले सप्ताह एक कार्यक्रम में सीएम केजरीवाल ने एक सार्वजनिक कार्यक्रम में फिर बढ़े किरायों का मुद्दा उठाया था और वहां हरदीप पुरी मौजूद थे। आज सीएम की मुलाकात पुरी से हो सकती है, जिसमें कई मुद्दों पर बातचीत संभव है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here