ग्लोबल मार्केट्स में कारोबार बढ़ाएगी हीरो मोटोकॉर्प

0
145

हैदराबाद
दुनिया की बड़ी टू-वीलर कंपनियों में से एक हीरोमोटोकॉर्प विदेशी बाजारों में अपनी स्ट्रैटजी पर नए सिरे से काम कर रही है। कंपनी इसके लिए ग्लोबल कंसल्टेंसी मैकिंसी की मदद ले रही है। इलेक्ट्रिसिटी मोबिलिटी योजना पर फिर कदम बढ़ाने के अलावा अलावा यह ऑटो कंपनी नए ग्लोबल मार्केट्स में उतरने के लिए भी योजना बना रही है। कंपनी मार्केट्स में डिमांड को पूरा करने के लिए ऑर्गनिक और मर्जर, दोनों मोर्चों पर संभावनाएं तलाश रही है। इसके अलावा कंपनी स्कूटर और प्रीमियम प्रॉडक्ट्स में हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए भी लगातार जुटी हुई है।आंध्र प्रदेश के चित्तूर में अपनी आठवीं ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी शुरू करने के अवसर पर पिछले सप्ताह कंपनी के चेयरमैन और चीफ एग्जिक्यूटिव पवन मुंजाल ने घरेलू और विदेशी बाजारों में अधिक मार्केट शेयर हासिल करने की अपनी योजनाओं के बारे में बताया था।मुंजाल ने कहा था, ‘मैकिंसी हमारी क्षमता में सुधार करने और नए मार्केट में बड़ी सेल्स हासिल करने के लिए हमारे साथ मिलकर काम कर रही है। खासतौर पर कोलंबिया और नाइजीरिया में हम अपनी स्ट्रैटजी पर नए सिरे से काम कर रहे हैं। ये ऐसे मार्केट हैं, जहां हमारी एंट्री के बाद जियोपॉलिकल कारणों और तेल की वजह से गिरावट आई है। इसलिए हम इन मार्केट्स के लिए नई स्ट्रैटजी पर काम कर रहे हैं। हम वहां नई इनोवेटिव स्ट्रैटजी के साथ अधिक से अधिक मार्केट शेयर हासिल करना चाहते हैं।’मुंजाल ने कहा, ‘हम मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी के साथ ग्लोबल मार्केट्स में विस्तार कर रहे हैं। हम अभी एशिया, अफ्रीका, लैटिन अमेरिका और सेंट्रल अमेरिका सहित 37 देशों में अपना बिजनेस चला रहे हैं।’ हालांकि उन्होंने कहा कि विदेशी बाजारों में विस्तार के बावजूद घरेलू मार्केट पर उनका फोकस बना रहेगा।एक डिस्ट्रीब्यूटर पार्टनर के साथ नाइजीरियाई मार्केट में एंट्री करने के बाद अब हीरोमोटोकॉर्प मेक्सिकन मार्केट में उतरने को लेकर काफी उत्सुक नजर आ रही है। मुंजाल ने कहा, ‘मेक्सिको ऐसा देश है जहां अभी तक हमने एंट्री नहीं की है। मैं व्यक्तिगत तौर पर मेक्सिको में एंट्री करने के लिए बहुत उत्सुक हूं। मुझे उम्मीद है कि हमारी टीम जल्द मेक्सिको में अपने आधुनिक प्रॉडक्ट्स लॉन्च करेगी। उन्होंने कहा कि कर्ज मुक्त और कैश रिच कंपनी हीरोमोटोकॉर्प नए मार्केट में एंट्री करने के लिए मर्जर और एक्विजिशन, दोनों तरह की डील भविष्य में कर सकती है। उन्होंने कहा कि चितूर फैसिलिटी शुरू होने पर यह कंपनी के लिए एक्सपोर्ट हब भी बन सकता है जहां से कंपनी विदेशी बाजारों में प्रॉडक्ट्स एक्सपोर्ट करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here