बीजेपी को हराने के लिए ‘ज्यादा तजुर्बे’ वाले के लिये त्‍याग करेंगे अखिलेश?

0
135

लखनऊ
समाजवादी पार्टी (एसपी) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीजेपी पर देश की सबसे बड़ी जातिवादी पार्टी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह बीजेपी के साथ गठबंधन के जरिए बीजेपी का फॉर्म्यूला उसी के खिलाफ लगाने जा रहे हैं और इस पार्टी को हराने के लिये वह ज्‍यादा ‘तजुर्बा’ रखने वाले अपने साथी के लिये त्‍याग करने को तैयार हैं।
अखिलेश ने विधान परिषद में वर्ष 2018-19 के बजट पर सामान्य चर्चा में हिस्सा लेते हुए एसपी-बीएसपी के तालमेल का जिक्र किया और कहा, ‘देश में सबसे बड़ी जाति‍वादी पार्टी अगर कोई है तो वह भारतीय जनता पार्टी है। आप (बीजेपी) हम पर जातिवादी होने का आरोप लगाते हैं। जो आपने किया, वही हमने सीखा। जो फॉर्म्यूला आपने तैयार किया, वही फार्म्यूला हम आपके खिलाफ लगाने जा रहे हैं। अब एसपी और बीएसपी एक हो गये हैं। अब आपकी कोशिश हमें तोड़ने की होगी। कभी गेस्ट हाउस कांड याद दिला रहे हैं। कभी कुछ याद दिला रहे हैं। मुझे खुशी है कि जो जवाब मुझे देना चाहिये था, वह बीएसपी की नेता (मायावती) ने दे दिया है। अब ये (बीजेपी) हर लड़ाई में हार जाएंगे।’उन्होंने कहा कि हमारे बीच झगड़ा कराने के लिये बीजेपी ने क्या नहीं किया। उनका (बीएसपी) राज्यसभा प्रत्याशी हरवा दिया। हम समाजवादियों का दिल इतना बड़ा है कि अगर कुछ देना पड़ेगा तो आगे चलकर दे देंगे। एसपी प्रमुख ने बीएसपी के साथ गठबंधन के भविष्य के लिहाज से महत्‍वपूर्ण बयान देते हुए कहा, ‘हम तो यह कहते हैं कि जब आपको हराना होगा तो जिसमें ज्‍यादा तजुर्बा होगा, उनके लिये हम त्‍याग कर देंगे। हमारा क्‍या जाता है। हमारी लड़ाई तो आपसे है क्‍योंकि आपने हमें जातिवादी बना दिया।’बता दें कि इससे पहले राज्यसभा चुनाव में बीएसपी के प्रत्याशी की हार के बाद मायावती ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि एसपी की ओर से कोई गलती नहीं हुई है, लेकिन राजनीतिक अनुभव के लिहाज से एसपी मुखिया अखिलेश यादव में तजुर्बे की कमी है। मायावती ने कहा, ‘बीजेपी इस भ्रम में ना रहे कि वह अगले साल होने वाले चुनाव में हमें अलग करने में कामयाब रही है। राज्यसभा चुनाव के दौरान की गई साजिश और बीएसपी की हार का बीएसपी और एसपी गठबंधन पर कोई असर नहीं पड़ेगा और अगले साल होने वाला आम चुनाव बीजेपी को महंगा पड़ेगा।’उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और सत्तापक्ष के अन्य सदस्यों की तरफ इशारा करते हुए अखिलेश ने कहा ‘इसे (गठबंधन) तोड़कर दिखाए। अगर नहीं तोड़ सके तो जान लो कि दोबारा सदन में नहीं आ पाओगे।’ एसपी अध्यक्ष ने कहा कि वह बीएसपी नेता का फिर धन्यवाद करना चाहते हैं। साथ ही पीस पार्टी समेत तमाम सहयोगियों का भी शुक्रिया, जिन्होंने मिलकर गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में बीजेपी को हराकर पूरे देश में एक संदेश दिया।उन्होंने कहा कि बीजेपी के विधायक, मंत्री या चाहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हों, सभी भाषा की मर्यादा भूल गये हैं। योगी इतना बौखला गये कि एसपी और बीएसपी को सांप-छछूंदर कह दिया। यह एक मुख्यमंत्री की भाषा नहीं हो सकती। योगी ने सदन में कहा कि मैं हिन्दू हूं और मुझे इस पर गर्व है, तो क्या मुझे गर्व नहीं है। हम ऐसे ‘बैकवर्ड प्रोग्रेसिव हिन्दू’ हैं, जिनका कोई मुकाबला नहीं है। अखिलेश ने कहा कि बीजेपी परिवारवाद को लेकर बड़ी-बड़ी बातें करती है। मुख्यमंत्री योगी आखिर कैसे उस मठ (गोरक्षपीठ) के मुखिया बने। अगर परिवारवाद नहीं होता तो शायद वह भी मठ के मुखिया ना बन पाते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here