पेपर लीक करने वालों ने सीबीएसई दफ्तर में एक दिन पहले ही भेज दी थी आंसरशीट

0
156

नई दिल्ली
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 10वीं गणित और 12वीं अर्थशास्त्र की परीक्षा फिर से कराने का फैसला लिया है। पेपर लीक के आरोपों के बाद सीबीएसई को ऐसा कदम उठाना पड़ा है। इस पूरे मामले में सबसे हैरान करने वाली बात यह रही कि पेपर लीक करने वालों ने सोमवार शाम को 12वीं अर्थशास्त्र की हाथ से लिखी हुई आंसर शीट सीबीएसई ऐकडमिक यूनिट को ही भिजवा दिया। आपको बता दें कि 12वीं अर्थशास्त्र की परीक्षा मंगलवार को थी। ऐसे में सवाल यह खड़ा हो रहा है कि जब एक दिन पहले ही सीबीएसई दफ्तर को लीक पेपर मिला तो परीक्षा होने से पहले ही क्यों नहीं कैंसल कर दी गई।सीबीएसई ने अपनी शिकायत में बताया है कि अज्ञात शख्स की तरफ से 26 तारीख को शाम 6 बजे के आसपास 4 पेजों की हाथ से लिखी आंसर शीट मिली। यह आंसर शीट एक लिफाफे में कर सीबीएसई ऐकडमिक यूनिट को भेजी गई थी। साफ है कि या तो पेपर लीक करने वाला सीबीएसई को चुनौती दे रहा है कि मुझे पकड़ कर दिखाओ या किसी ने जानबूझकर लीक की जानकारी देने के लिए ऐसा किया है।सीबीएसई को 23 मार्च को ही मिल गई थी सूचना
सीबीएसई के एफआईआर के मुताबिक बोर्ड को 23 मार्च को एक फैक्स मिला था। किसी अपुष्ट सूत्र ने शाम साढ़े 4 बजे के आसपास सीबीएसई को फैक्स भेज कथित पेपर लीक में एक कोचिंग संचालक और दो स्कूलों के शामिल होने की जानकारी दी थी। राजेंद्र नगर सेक्टर 8 में चल रहे कोचिंग के संचालक और राजेंद्र नगर के ही 2 स्कूलों पर पेपर लीक करने का आरोप लगाया गया।
बोर्ड ने बताया है कि इस शिकायत को 24 मार्च को सीबीएसई रिजनल ऑफिस को फॉरवर्ड कर दिया गया। शिकायत के मुताबिक इसी दिन सीबीएसई रिजनल ऑफिस ने इस शिकायत को इंस्पेक्टर सुशील यादव को फॉरवर्ड कर दिया। आपको बता दें कि बोर्ड 10वीं और 12वीं के इन दो पेपर्स की परीक्षा फिर से लेगा। हालांकि अबतक इसकी तारीख का ऐलान नहीं किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here