फोर्टिस के CEO ने कहा, जांच का मनिपाल के साथ डील पर नहीं होगा असर

0
96

नई दिल्ली
मनिपाल हॉस्पिटल और टीपीजी के साथ फोर्टिस हेल्थकेयर की डील पर अभी जो जांच चल रही है, उसका असर नहीं पड़ेगा। फोर्टिस के सीईओ भवदीप सिंह ने बुधवार को यह बात कही। डील के मुताबिक, फोर्टिस हेल्थकेयर अपने हॉस्पिटल बिजनस को अलग कर उसे मनिपाल के हॉस्पिटल बिजनस के साथ मिलाएगा। इसके साथ ही, वह बेंगलुरु बेस्ड ग्रुप को डायग्नोस्टिक यूनिट में भी अच्छी हिस्सेदारी बेचेगी।इस डील में अमेरिकी पीई फर्म टीपीजी मनिपाल ग्रुप को सपॉर्ट कर रही है। इस सौदे के 9-12 महीने में पूरा होने की उम्मीद है। इसके बाद फोर्टिस और मनिपाल के मिले हुए हॉस्पिटल बिजनस को शेयर बाजार में लिस्ट कराया जाएगा। दोनों कंपनियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी थी।सिंह ने रिपोर्टर्स के साथ कॉन्फ्रेंस कॉल में बताया, ‘जांच चल रही है और हम उसमें सहयोग कर रहे हैं। हमें जो भी सूचनाएं मांगी गई हैं, उन्हें मुहैया कराया गया है।’ जांच पूरी करने के लिए कोई समयसीमा तय नहीं की गई है। सेबी और एसएफआईओ फंड की कथित हेराफेरी और रिलेटेड पार्टी ट्रांजैक्शंस को लेकर फोर्टिस हेल्थकेयर की जांच कर रहे हैं। इस महीने की शुरुआत में फोर्टिस ने प्रमोटर्स मलविंदर और शिविंदर सिंह के खिलाफ आरोपों की जांच के लिए लॉ फर्म लूथरा ऐंड लूथरा को जिम्मा सौंपा था। दोनों पर कंपनी से कैश की हेराफेरी का आरोप है।फोर्टिस के सीईओ ने कहा कि इस जांच के नतीजों का मनिपाल के साथ डील पर असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने बताया, ‘हॉस्पिटल बिजनस को कंपनी से अलग कर मनिपाल के हॉस्पिटल बिजनस के साथ मिलाया जा रहा है। हमें नहीं लगता कि हम जो डील कर रहे हैं, उस पर इस जांच का कोई असर होगा।’ इस सौदे में मनिपाल हॉस्पिटल की वैल्यू 6,000 करोड़ रुपये लगाई गई है, जबकि फोर्टिस के हॉस्पिटल बिजनस का वैल्यूएशन 5,000 करोड़ रुपये तय किया गया है। वहीं, डायग्नोस्टिक बिजनेस एसआरएल की वैल्यू 3,600 करोड़ रुपये तय की गई है।इसमें मनिपाल ने 20 पर्सेंट हिस्सेदारी 720 करोड़ रुपये में खरीदने का प्रस्ताव रखा है। 2015 में जब एसआरएल ने स्टेक बेचने के लिए एक इन्वेस्टमेंट बैंक की सेवा ली थी, तब इसकी वैल्यू 5,000 करोड़ रुपये लगाई गई थी। सिंह ने बताया कि फोर्टिस और मनिपाल की वैल्यू और मनिपाल के प्रमोटर रंजन पाई के 3,900 करोड़ रुपये के निवेश को देखते हुए इस सौदे की कुल वैल्यू 15,000 करोड़ रुपये तक पहुंचने का अनुमान है।
हालांकि, शेयर बाजार इस सौदे से बहुत खुश नहीं है। उसे लग रहा है कि सौदे में फोर्टिस हेल्थकेयर की वैल्यू कम लगाई गई है। इस वजह से कंपनी के शेयर बुधवार को 13.4 पर्सेंट की गिरावट के साथ 123.40 रुपये पर बंद हुए। इस प्राइस के हिसाब से फोर्टिस की वैल्यू 6,400 करोड़ रुपये बैठती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here