दिल्‍ली में लालू से मिले उपेंद्र कुशवाहा, बिहार में सियासत तेज

0
148

शुक्रवार को रालोसपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने एम्‍स में राजद अध्‍यक्ष लालू प्रसाद यादव से मुलाकात की। इसके बाद बिहार की राजनीति शुरू हो गई है।
पटनाय । दिल्ली के एम्स में राजद प्रमुख लालू प्रसाद से रालोसपा प्रमुख एवं केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा की मुलाकात के बाद बिहार की सियासत गर्म है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने दोनों नेताओं की शिष्टाचार मुलाकात बताई है, लेकिन साथ ही यह भी जोड़ा है कि राजद को कुशवाहा से परहेज नहीं है। वहीं, जदयू नेता ने इसे औपचारिक मुलाकात बताया।तेजस्वी ने कहा कि मेरे पिता बीमार हैं और एम्स में उनका इलाज चल रहा है। दिल्ली पहुंचने की सूचना मिलने पर उपेंद्र कुशवाहा मिलने गए थे। इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए। हालांकि तेजस्वी ने यह भी कहा कि जिस मकसद से कुशवाहा राजग के साथ गए थे, वह पूरा नहीं हुआ।तेजस्वी ने महागठबंधन में आने के लिए सबको न्योता दिया और कहा कि नीतीश कुमार को छोड़कर सबका स्वागत है। आरएसएस एवं भाजपा पर हमला बोलते हुए तेजस्वी ने दलितों, महादलितों, पिछड़ा और अतिपिछड़े वर्ग के लोगों से राज्य में शांति-सद्भाव बनाए रखने की अपील की।उन्होंने कहा कि वे मोहरा बनने से बचें। कुछ लोग गरीबों को दूसरे मामलों में उलझाकर सत्ता पर कब्ज़ा करना चाहते हैं। हम युवाओं को नौकरी और रोजगार की बात करते हैं तो भाजपा ध्यान भटकाने की कोशिश करती है।
कुशवाहा बोले- लालू कुछ भी कहें, हमें सीटों का लालच नहीं
वहीं, इस मुलाकात पर भाजपा नेता नितिन नवीन ने कहा कि वे कुशवाहा व्‍यक्तिगत रूप से लालू से मिलने गए थे। इसके राजनीतिक मायने नहीं निकाला जाए। उपेंद्र कुशवाहा पुन: बिहार को जंगलराज में नहीं धकेलना चाहेंगे।
वहीं, जदयू नेता नीरज कुमार ने भी इस मुलाकात को औपचारिक बताया। कहा कि इसका कोई राजनैतिक अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए। साथ ही राजद के भाई वीरेंद्र के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि बेकार बोलना उनकी आदत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here