संयुक्त राष्ट्र ने उत्तर कोरिया की मदद करने पर शिपिंग कंपनियों को किया ब्लैकलिस्ट

0
198

संयुक्त राष्ट्र
संयुक्त सुरक्षा परिषद ने 27 जहाजों, 21 शिपिंग कंपनियों और एक व्यक्ति को इसलिए ब्लैकलिस्ट कर दिया क्योंकि उन्होंने उत्तर कोरिया पर लगे प्रतिबंधों को ताक पर रखते हुए उसकी सहायता की और कारोबार किया। इन कारोबारियों ने उत्तर कोरिया को उस पर लगे प्रतिबंधों से बचाने का भी प्रयास किया। इसे लेकर फरवरी 2018 में अमेरिका ने इन कारोबारियों पर प्रतिबंध लगाने की संयुक्त राष्ट्र से मांग की थी। साथ ही तेल और कोयले जैसे कोरियाई माल की तस्करी पर भी चिंता जताई थी। संयुक्त राष्ट्र ने मांग मानते हुए उत्तर कोरिया के साथ कारोबार करने वालों को ब्लैकलिस्ट कर दिया है।
संयुक्त राष्ट्र ने अभी तक उत्तर कोरिया पर कई बार प्रतिबंध लगाया है, बावजूद इसके वह बाज नहीं आ रहा है। बीबीसी में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार को जारी किए गए नए प्रतिबंधों के जरिए न सिर्फ उत्तर कोरिया के शिपिंग ऑपरेशन को निर्देश दिए गए थे, बल्कि चीन की उन कंपनियों को भी निर्देश जारी किए गए थे, जो प्योंगयांग के साथ व्यापार कर रही हैं।जिन कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया गया है, उनमें से 16 उत्तर कोरिया में हैं, जबकि 5 हॉन्ग कॉन्ग में, 2 चीन में, दो ताइवान में हैं, जबकि 1 पनामा और एक सिंगापुर में है। संयुक्त राष्ट्र में भारतीय मूल की अमेरिकी राजदूत निकी हेली ने कहा कि हालिया कदम से साफ संदेश दिया जा रहा है कि उत्तर कोरिया पर दबाव बनाने के लिए पूरा अंतरराष्ट्रीय समुदाय एकजुट है।संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्योंगयांग पर लगाए गए अब तक के प्रतिबंधों में यह सबसे बड़ा प्रतिबंध है। बता दें कि उत्तर कोरिया पर 2006 से लेकर अभी तक कई प्रतिबंध लगाए जा चुके हैं। इनकी वजह से उत्तर कोरिया के निर्यात में काफी कटौती भी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here