बिहार: प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

0
383

बिहार के मोतिहारी में निगरानी ने एक बीईओ को घूस लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। वह शिक्षक से वेतन भुगतान के लिए 75 हजार रूपये घूस मांग रहा था।
पूर्वी चंपारण । निगरानी पटना की टीम ने गुरुवार को पूर्वी चंपारण जिले के पकड़ीदयाल के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी बिंदा राम को 65 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। बीईओ की गिरफ्तारी प्रखंड मुख्यालय स्थित प्रखंड संसाधन केंद्र (बीआरसी) सह आवास से की गई।बीईआके के खिलाफ राजेपुर नवादा निवासी सह शेखपुरवा मध्य विद्यालय के प्रधान शिक्षक कृष्णदेव राम ने शिकायत दर्ज कराई थी। शिक्षक ने अपनी शिकायत में कहा था कि तबादले के चक्कर में नौ महीने से बंद पड़े वेतन भुगतान के लिए बीईओ ने 75 हजार रुपये की रिश्वत मांगी थी।रिश्वत की राशि में से दस हजार रुपये अग्रिम के तौर पर ले लिए थे। शेष 65 हजार की राशि की मांग की जा रही थी। इस बीच शिक्षक की सूचना पर गुरुवार को निगरानी के पुलिस उपाधीक्षक महाराजा कनिष्क कुमार सिंह के नेतृत्व में पहुंची टीम ने अपना जाल बिछाया। जैसे ही शिक्षक से रिश्वत के रुपये बीईओ ने लिए टीम ने उन्हें धर दबोचा और अपने साथ ले गई।यह है मामला पकड़ीदयाल प्रखंड के राजेपुर नवादा निवासी शिक्षक कृष्णदेव राम शेखपुरवा मध्य विद्यालय में प्रधान शिक्षक के रूप में पदस्थापित थे। वहीं राजेपुर नवादा मध्य विद्यालय में चंद्रलता सिन्हा प्रधान शिक्षक के पद पर काम कर रही थीं। इस बीच प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी बिंदा राम ने कृष्णदेव राम का तबादला राजेपुर व चंद्रलता सिन्हा का तबादला शेखपुरवा विद्यालय में कर दिया। महिला शिक्षक इस मामले को लेकर प्राधिकार में चली गईं।प्राधिकार ने चंद्रलता के पक्ष में निर्णय दिया। चंद्रलता ने प्राधिकार के फैसले के आलोक में काम करना शुरू कर दिया। इस बीच बिना प्राधिकार के आदेश के ही कृष्णदेव अपने काम का निष्पादन करने लगे। नतीजतन उनके वेतन पर तबादले के चक्कर में रोक लग गई। नौ महीने से वेतन नहीं मिलने से परेशान शिक्षक जब बीईओ के पास अपनी पीड़ा लेकर पहुंचे तो बीईओ ने उनसे 75 हजार का रिश्वत मांग लिया। फिर शिक्षक ने निगरानी की शरण ली और रिश्वतखोर बीईओ दबोचे गए।शिक्षक ने शिकायत दर्ज कराई थी। शिक्षक की शिकायत की प्रारंभिक जांच के बाद उपरोक्त कार्रवाई की गई है। बीईओ रिश्वत लेते गिरफ्तार किए गए हैं। वरीय अधिकारियों के निर्देश के आलोक में आगे की कार्रवाई की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.