हिंदी (Medium) चीनी भाई-भाई, इरफ़ान ने बॉक्स ऑफ़िस पर ऐसी तबाही मचाई

0
161

हिंदी मीडियम ने चीनी बॉक्स ऑफ़िस पर अपने दूसरे दिन के कलेक्शन के साथ आमिर खान की दंगल और सलमान खान की बजरंगी भाईजान को पीछे छोड़ दिया है लेकिन…
मुंबई। चीन के दर्शकों ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि भारतीय फिल्मों की कहानियां और कलाकार दिलों को छू लेने वाला ऐसा परफार्मेंस देते हैं कि फिर भाषा को परे रख कर उस फिल्म को देखना मजबूरी बन जाती है। इरफ़ान और सबा कमर स्टारर हिंदी मीडियम के साथ चीन में कुछ ऐसा ही हुआ है क्योंकि फिल्म ने दो दिनों में 60 करोड़ रूपये से अधिक कलेक्शन कर न सिर्फ़ चीन के बॉक्स ऑफ़िस को हिला दिया है बल्कि आमिर और सलमान खान जैसे सुपरस्टार्स की फिल्मों को पीछे छोड़ दिया है।चीन के बॉक्स ऑफ़िस पर इस बुधवार को साकेत चौधरी के निर्देशन में बनी हिंदी मीडियम को रिलीज़ किया गया। करीब चार हजार स्क्रीन्स में रिलीज़ हुई इस फिल्म ने दूसरे दिन 6.28 मिलियन डॉलर यानि 40 करोड़ 81 लाख रूपये का कलेक्शन किया। फिल्म ने अब तक चीन में 9.70 मिलियन डॉलर यानि 63 करोड़ छह लाख रूपये की कमाई कर ली है। हिंदी मीडियम ने पहले दिन 3.39 मिलियन डॉलर यानि 22 करोड़ छह लाख रूपये का कलेक्शन किया था यानि 83.63 प्रतिशत का जबरदस्त ग्रोथ मिला है। इस जबरदस्त कलेक्शन के साथ भारतीय फिल्मों ने अब ये साबित करना शुरू कर दिया है कि चीन में उनकी घुसपैठ सिर्फ नाम की नहीं बल्कि बॉलीवुड की फिल्में चाइना वाले उतने ही चाव से देखते हैं, जितना इंडिया वाले चाइनीज़ पसंद करते हैं। हिंदी मीडियम ने चीनी बॉक्स ऑफ़िस पर अपने दूसरे दिन के कलेक्शन के साथ आमिर खान की दंगल और सलमान खान की बजरंगी भाईजान को पीछे छोड़ दिया है लेकिन आमिर की ही दूसरी फिल्म सीक्रेट सुपरस्टार से पीछे है।
दंगल ने दूसरे दिन 4.69 मिलियन डॉलर यानि 30 करोड़ 30 लाख रूपये का कलेक्शन किया।सीक्रेट सुपरस्टार को दूसरे दिन 10.49 मिलियन डॉलर यानि 66 करोड़ 95 लाख रूपये मिले थे।पिछले साल 19 मई को भारत में रिलीज़ हुई हिंदी मीडियम, शिक्षा से जुड़ी उस सोच पर करार प्रहार करने वाली कहानी रही, जो अक्सर आम ज़िंदगी का हिस्सा होती है। राज बतरा (इरफ़ान ) की दिल्ली में साड़ियों की एक दुकान होती है। ख़ूब पैसा है लेकिन अंग्रेजी में हाथ तंग। उनकी पत्नी मीता (सबा कमर ) हाई सोसाईटी में अपनी पैठ बनाने के लिए चाहती हैं कि बेटी पिया (दिशिता सहगल) का कान्वेंट स्कूल में एडमिशन हो जाय। इसके बाद माँ-बाप की जुगाड़ की प्रक्रिया शुरू होती है। अंग्रेजी सिखने से लेकर गरीबों के कोटे से एडमिशन लेने के लिए गरीबों की बस्ती में जा कर रहते की कवायद तक। हिंदी मीडियम ने घरेलू बॉक्स ऑफ़िस पर दो करोड़ 81 लाख रूपये से ओपनिंग ली थी और 69 करोड़ 59 लाख रूपये का लाइफ़ टाइम कलेक्शन कर रिकॉर्ड बना डाला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here