नूरपुर स्कूल बस हादसा: हर आंख है नम, सुनाई दे रही हैं बस चीखें

0
190

अभी तक गांववासी हादसे से उबर नहीं पाए हैं। हादसे से हर आंख नम है। जिन परिजनों ने बच्चों को हमेशा के लिए खो दिया है उनके आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं।नूरपुर, प्रदीप शर्मा। फूल बनने से पहले नन्ही कलियां बुधवार सायं हमेशा के लिए हरिद्वार रवाना हो गईं। विधायक राकेश पठानिया ने 12 मृत बच्चों की अस्थियां विसर्जित करने के लिए बस का प्रबंध किया है ताकि पीडि़त परिवारों को हरिद्वार जाने के लिए किसी तरह की परेशानी न हो। चेली बस हादसे में सबसे ज्यादा खुआड़ा गांव के बच्चों की मौत हुई है। अभी तक गांववासी हादसे से उबर नहीं पाए हैं। हादसे से हर आंख नम है। जिन परिजनों ने बच्चों को हमेशा के लिए खो दिया है उनके आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। खुआड़ा में सन्नाटा पसरा है और सुनाई दे रही हैं तो सिर्फ परिजनों की चीखें।
एक घायल की हालत गंभीर
बस हादसे के सात घायल नितिश, कोमल, शिवानी, अवनि, वंशिका, नताशा व जीविका का उपचार अमनदीप अस्पताल पठानकोट में किया जा रहा है। यहां नितिश की हालत गंभीर बताई जा रही है जबकि अन्य की हालत में सुधार हो रहा है। नूरपुर अस्पताल में उपचाराधीन कनिका, रणवीर, निशांत व मुनीश की हालत में भी सुधार हुआ।
नन्हे-मुन्नों के शवों से भर गया नूरपुर अस्पताल, कई घरों के बुझे चिराग
बंद रहा स्कूल
वजीर राम सिंह पठानिया मेमोरियल पब्लिक हाई स्कूल गुरचाल बुधवार को दूसरे भी बंद रहा। दिनभर स्कूल में सन्नाटा पसरा रहा। 2013 मॉडल की थी बस वजीर राम सिंह पठानिया मेमोरियल पब्लिक स्कूल गुरचाल की जो बस सोमवार को दुर्घटनाग्रस्त हुई थी, वह 2013 मॉडल की थी। एसडीएम आबिद हुसैन सादिक ने बताया कि बस चालक मदन लाल निवासी नेरा की आयु 57 साल थी और ड्राइविंग लाइसेंस जून 2018 तक मान्य था।
जल्द शुरू होगा सड़क का कार्य
विधायक राकेश पठानिया ने बुधवार को लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के साथ घटनास्थल का दौरा किया। उन्होंने कहा कि मलकवाल-खुआड़ा सड़क की टारिंग व मरम्मत का कार्य ठेकेदार को अवार्ड कर दिया है और जल्द काम शुरू कर दिया जाएगा।
खुंडियां में बनाया जाए बस अड्डा
बच्चों की सुरक्षा पर सरकार सख्त्
कांगड़ा जिला के नूरपुर उपमंडल की ठेहड़ पंचायत में स्कूल बस के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद सरकार विद्यार्थियों की सुरक्षा के लिए सख्त हो गई है। प्रदेशभर में निजी स्कूलों में बच्चों को लाने व ले जाने वाले निजी वाहनों व स्कूल बसों की जांच के लिए अभियान शुरू कर दिया है। यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों केचालान किए जा रहे हैं तथा स्कूग्ल प्रबंधकों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।
बुधवार को ऊना जिला में 13 स्कूलों की 85 बसों की जांच की गई। निजी स्कूल माउंट कार्मल में बच्चों के लिए लगाए गए 44 वाहन बुधवार को नहीं चले। इन वाहन मालिकों ने अपनी सेवाएं देने से इनकार कर दिया है जिस कारण अभिभावकों को खुद अपने वाहनों में बच्चों को स्कूल छोडऩे जाना पड़ा।
चंबा जिला के बनीखेत में अतिरिक्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी राम प्रकाश की अगुवाई में कई वाहनों की जांच की। दस्तावेजों में खामियां पाए जाने पर दो निजी स्कूल बसों को जब्त किया गया। इनमें एक निजी स्कूल बस में किसी अन्य स्कूल के बच्चे सवार थे तो दूसरी बस बिना परमिट के ही दौड़ाई जा रही थी।
विभाग ने 19 स्कूल बसों के चालान कर 3800 रुपये जुर्माना मौके पर ही वसूल किया। शिमला शहर में तीन टैक्सियों व एक स्कूल बस का चालान किया गया। इसके अलावा जिला यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले 640 वाहनों के चालान किए गए। हमीरपुर जिला में पुलिस व क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी ने जगह-जगह नाके लगाकर स्कूली बसों का निरीक्षण किया। वाहनों के कागजात जांचे व लापरवाही पर चालान भी किए। हमीरपुर में नियमों को पूरा न करने वाले करीब 10 वाहनों के चालाए किए। इनमें स्कूली बसें व निजी वाहन शामिल हैं।
बिलासपुर जिला में पांच स्कूल बसों व तीन निजी वाहनों के चालान किए। मंडी जिले के सुंदरनगर में 10 स्कूली बसें जांची। कुल्लू जिला में पुलिस ने तीन स्कूलों के वाहन जांचे। क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी ने बताया क अभी दो दिन और यह अभियान चलेगा। सोलन जिला में आठ स्कूली बसों व 22 निजी वाहनों के चालान किए गए। कांगड़ा जिला में 14 स्कूल बसों के चालान किए गए। पुलिस व क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी ने वाहन चालकों से यातायात नियमों का पालन करने की अपील की है।
सुरक्षित यातायात के लिए सरकार तकनीक का सहारा लेगी। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों के साथ मिलकर कार्य योजना बनाई जाएगी। हिमाचल की भौगोलिक परिस्थितियों के अनुरूप तकनीक विकसित की जाएगी। सड़क सुरक्षा को लेकर जानकारी व जागरूकता फैलाने के लिए इंटरनेट और एंड्राइड एप्लीकेशन विकसित की जाएगी। हादसों को रोकने के लिए वाहन चालकों, स्कूल व कॉलेज के विद्यार्थियों, स्वयंसेवी संगठनों,महिला व युवक मंडलों को जागरूकता अभियानों में शामिल किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here