उन्नाव रेप केस: हाई कोर्ट ने कहा- विधायक को हिरासत में नहीं, गिरफ्तार करें

0
167

लखनऊ
उन्नाव जिले की बांगरमऊ सीट से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) का शिकंजा कस चुका है। सीबीआई बीजेपी विधायक पर लगे रेप के आरोप, पीड़िता के पिता की हत्या, युवती के पिता पर दर्ज आर्म्स ऐक्ट के मामले की जांच में जुट गई है। सीबीआई ने उन्नाव के माखी थाने के तत्कालीन एसओ केपी सिंह समेत 6 पुलिसकर्मियों को हिरासत में लिया है। इन सबके इतर हाई कोर्ट ने उन्नाव रेप मामले में कहा है कि आरोपी विधायक को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। साथ ही इस मामले की प्रोग्रेस रिपोर्ट 2 मई तक सौंपने के निर्देश भी दिए हैं।सीबीआई की टीम शुक्रवार को होटेल ग्रीन पैलेस में पीड़िता के परिजनों से पूछताछ के लिए भी पहुंची। साथ ही टीम ने पुलिस थाने में पहुंचकर भी पुलिस ऑफिसरों से पूछताछ की और जांच के लिए जिला अस्पताल का भी दौरा किया।उन्नाव रेप कांड: योगी बोले- किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा, अपराध पर सरकार का जीरो टॉलरेंस
पुलिस की रिपोर्ट पर भी उठे थे सवाल
गौरतलब है कि पिछले दिनों एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर आनंद कुमार ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया था, ’11 जून 2017 को दर्ज FIR में विधायक का नाम नहीं था, लेकिन 22 अगस्त 2017 को विधायक का नाम सामने आया था। इस मामले की भी जांच की जाएगी कि FIR के मामले में उन्नाव पुलिस की रिपोर्ट सही थी या नहीं।’ पीड़िता के पिता की मौत के बाद एसआईटी टीम माखी गांव जांच करने पहुंची थी, जिसके बाद इस बात का जिक्र भी किया गया था कि पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में पुलिस ने लापरवाही बरती।
कुलदीप सिंह सेंगर
हाई कोर्ट ने दिए निर्देश
उन्नाव रेप केस के मामले में हाई कोर्ट ने कहा है कि आरोपी विधायक को हिरासत में नहीं बल्कि गिरफ्तार किया जाना चाहिए। इसके साथ ही कोर्ट ने पूरे मामले की प्रोग्रेस रिपोर्ट 2 मई तक सौंपने के निर्देश भी दिए हैं। बता दें कि बीजेपी विधायक पर लगे रेप के आरोप के मामले में हाई कोर्ट ने ऐक्शन लेते हुए योगी सरकार से पूछा था कि वह एक घंटे में बताए कि विधायक को गिरफ्तार करेंगे या नहीं। अदालत में इस मामले में दोनों पक्षों के बीच बहस गुरुवार को ही पूरी हो गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here