मुझे विश्वास है कि ‘बिहार संवादी’ कार्यक्रम का बेहतर नतीजा निकलेगा: मुख्यमंत्री

0
358

दैनिक जागरण द्वारा आयोजित बिहार संवादी कार्यक्रम की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि इस तरह के आयोजन से बेहतर नतीजा निकलेगा।
पटना । दैनिक जागरण द्वारा आयोजित बिहार संवादी कार्यक्रम का उद्धाटन करने के बाद समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि आज दुनिया में तनाव और टकराव का माहौल है। हमलोगों को इससे निकलना होगा और सकारात्मक मानसिकता के साथ काम करना होगा।मुख्यमंत्री ने इस आयोजन के लिए दैनिक जागरण को बधाई देते हुए कहा कि किसी भी संवाद का आयोजन इस तरह हो जो सकारात्मक दिखे और उसका निष्कर्ष भी सकारात्मक हो। मुझे विश्वास है कि बिहार संवादी कार्यक्रम का बेहतर नतीजा निकलेगा।मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम को प्रोत्साहित करना हमलोगों का उद्देश्य रहा है। सरकार की तरफ से लिट्रेचर एवं कल्चर फेस्टिवल का आयोजन किया जाता रहा है। बिहार ज्ञान की भूमि है। बिहार का नाम ‘विहार’ पर पड़ा है। यहां का माहौल काफी सकारात्मक था।साहित्य के क्षेत्र में विद्यापति, दिनकर जी, रेणु जी, बाबा नागार्जुन सभी यहीं के थे। हर क्षेत्र में चाहे, वह साहित्य का हो, दर्शन का हो, विज्ञान, कला का हो बिहार की अपनी भूमिका रही है। हाल ही में जापान के यात्रा के दौरान टोक्यो में भारतीय दूतावास में एक व्यक्ति के द्वारा रखी गई सुरक्षित मधुबनी पेंटिंग को देखने का मौका मिला।जागरण के साहित्य उत्सव ‘बिहार संवादी’ का आगाज, CM नीतीश ने किया उद्घाटन मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज में प्रेम-सद्भाव और सौहार्द का माहौल बनाए रखने की जरुरत है। इस कार्यक्रम में लेखक, विद्वान, साहित्यकार, पत्रकार, फिल्म जगत के लोग व्यापक चर्चा के लिए शामिल हो रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि संवाद से सकारात्मक संदेश जाएगा। आपलोगों की चर्चा का व्यापक असर होगा।समाज सुधार के मुद्दे, जैसे शराबबंदी, बाल विवाह, दहेज प्रथा जैसे विषयों पर भी चर्चा हो। यह कार्यक्रम साहित्य उत्सव की तरह है और इसमें खुशी तब मिलेगी जब समाज में तनाव एवं टकराव खत्म होगा।मुख्यमंत्री ने कहा कि चाहे प्रशासनिक क्षेत्र में हो, व्यवसाय में हो, राजनीति में हो, सभी क्षेत्र के लोगों की साहित्य के प्रति रुचि प्रशंसनीय है। हिंदी का विकास सिर्फ संस्कृत की तरफ ही नहीं बल्कि ऊर्दू के तरफ भी हो। सबको मिलाकर हिंदी भाषा और समृद्ध होगी।
पटना: CM नीतीश ने रवाना किया दहेज विरोधी जागरण रथ, कही ये बड़ी बात उन्होंने कहा कि अखबारों में सामाजिक मुद्दों के लिए भी पृष्ठ सुरक्षित करना चहिए। उन्होंने कहा कि बिहार में पाठकों की काफी संख्या है। यहां सबसे ज्यादा पत्रिका बिकती है। यहां के पाठक सतर्क हैं। मुझे भी बचपन से अखबार पढ़ने में रुचि रही है और आज भी पढ़ता हूं।बहुत सारी बातों की जानकारी हो जाती है। नई पीढ़ी समाचार पत्रों के माध्यम से सहज ढंग से ज्ञान अर्जित कर सकते हैं। ‘बिहार संवादी’ कार्यक्रम से लेखन की प्रवृति भी बढ़ेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन स्वस्थ्य मानसिकता को दर्शाता है।बिहार को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाने में इस तरह के कार्यक्रम की भूमिका है। विकास का मतलब सिर्फ इनफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण नहीं होता बल्कि समाजिक उत्थान भी होता है। विकास का मतलब न्याय के साथ विकास, हर इलाके का विकास, हर समुदाय का विकास है। हम कुरीतियों को दूर करेंगे तो विकास प्रभावी होगा। मुझे ऐसा विश्वास है इस संवादी कार्यक्रम का सकारात्मक परिणाम जरुर मिलेगा।कार्यक्रम में मुख्यमंत्री का स्वागत दैनिक जागरण बिहार-झारखंड के एसोसियेट एडिटर श्री सदगुरू शरण ने किया तथा मुख्य महाप्रबंधक श्री अनंत त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री को प्रतीक चिन्ह भेंट किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री एवं अन्य अतिथियों द्वारा बेस्ट सेलर की सूची एवं दैनिक जागरण ज्ञानवृति के लिए चयनित तीन प्रतिभागियों श्री दीप्ति सामंत रे, श्री नाईस हसन एवं श्री निर्मल कुमार पांडेय के नामों की सूची जारी की गई।इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष श्री हृदय नारायण दीक्षित, दैनिक जागरण समूह के सीनियर एक्जक्यूटिव एडिटर श्री प्रशांत मिश्रा, दैनिक जागरण बिहार-झारखंड के मुख्य महाप्रबंधक श्री आनंद त्रिपाठी, एसोसिएट एडिटर श्री सदगुरु शरण, विधान पार्षद श्री रामवचन राय, पूर्व प्रशासनिक पदाधिकारी श्री शक्ति सिंह, वरिष्ठ पत्रकार श्री अजीत अंजुम, मुख्यमंत्री के सचिव श्री मनीष वर्मा एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.