नीति आयोग के CEO के बयान से जदयू हुआ नाराज, कही ये बड़ी बात…

0
125

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत के विवादास्पद बयान पर जदयू नेता नीरज कुमार ने आपत्ति जताई है और कहा है कि बिहार जैसे राज्यों के कारण देश पिछड़ गया है, यह कहना गलत है।
पटना । नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत के बयान पर जदयू ने आपत्ति जताई और कहा कि इस असमान विकास के लिए बिहार नहीं जिम्मेदार है, बल्कि इसके ऐतिहासिक कारण हैं। बता दें कि नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा है कि देश बिहार, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के कारण पिछड़ गया है।
जदयू नेता नीरज कुमार ने कहा कि सभी क्षेत्रों के समान विकास से ही देश का संपूर्ण विकास हो सकता है।उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि देश में असमान विकास के लिए कौन जिम्मेवार है? पिछड़े राज्य की सूची में शामिल होने के बावजूद बिहार लगातार पिछले 12 सालों से विनिर्माण क्षेत्र की विकास दर में राष्ट्रीय औसत से आगे रहा है।उन्होंने कहा कि मानव विकास सूचकांक एक चुनौती है। जनसंख्या का घनत्व, क्षेत्रफल, पड़ोसी राज्यों के नदियों का कहर और अन्य प्राकृतिक आपदाओं को झेलने के कारण अगर मानव विकास सूचकांक के विकास में परेशानी आती है, तो इसका जिम्मेदार राज्य नहीं हो सकता है।नीरज कुमार ने कहा कि आज देश में आर्थिक और सामाजिक असमानता उभरने का एक बड़ा कारण असमान विकास है। देश में जितने भी विकसित राज्य हैं, उनके विकास में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से बिहारियों का ही योगदान रहा है। बिहार के लोग जब अन्य राज्यों के विकास में योगदान कर सकते हैं, तो फिर बिहार को क्यों नहीं विकसित किया जा सकता है।
बिहार में गरमायी सियासत, नीति आयोग के CEO को तत्काल हटाने की मांग
उन्होंने कहा कि जेडीयू का ही नहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी सोच है कि बिना पूर्वोत्तर राज्यों के विकास के देश का विकास नहीं हो सकता। यही कारण है कि पूर्वोत्तर राज्यों के विकास पर जोर दिया गया है।नीरज ने कहा, “मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मानव विकास सूचकांक को बेहतर बनाने के लिए ही राज्य में शराबबंदी, बाल विवाह, दहेज प्रथा जैसी बुराइयों को समाप्त करने के लिए समाज में जनजागरूकता अभियान चलाया है, ताकि प्रति व्यक्ति आय के माध्यम से सामान्य जीवन स्तर को सुधारा जा सके।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here