जेल में बहुत बेचैन है आसाराम, आज नाश्ते में खाया गुड़ और चना

0
100

नाबालिग से बलात्कार के आरोप में उम्र कैद की सजा पाए कथावाचक आसाराम को आज पहली बार जेल से मिलने वाले नाश्ते से ही संतोष करना पड़ा। जेल सूत्रों ने बताया कि अदालत द्वारा कल सुनायी गयी सजा के बाद आसाराम बहुत बैचेन हैं और रात को वह काफी देर तक सो नही पाए।उन्होंने कल रात जेल से मिला भोजन भी नही किया। सजा मिलने के बाद आसाराम की पहचान 130 नंबर कैदी के रूप में हुयी है। कल तक अपने आश्रम की ओर से आने वाले खाने पर निर्भर रहने वाले आसाराम को अब जेल के नाश्ते और रोटियों पर ही रहना होगा। जेल मेनुअल के अनुसार सजा मिलने के बाद अब कैदी को जेल का ही भोजन करना होगा।सूत्रों के अनुसार आसाराम की दिनचयार् में आज परिवर्तन देखने को मिला। उन्होंने आज सवेरे जेल प्रशासन की ओर से नाश्ते में मिले मूंगफली, चना और गुड का सेवन किया। उन्हें आज सवेरे अन्य कैदियों की तरह ही उठाया गया।पौधों को पानी सींचने का काम करेगा आसाराम
जेल अधीक्षक विक्रम सिंह ने बताया कि नियमों के तहत सभी कैदियों को कार्य बांटा जाता है लेकिन उनकी उम्र को देखते हुये हल्का कार्य ही दिया जायगा। अभी यह तत्काल पता नहीं चला है कि उन्हें जेल में क्या काम दिया गया है लेकिन बताया जाता है कि अब आसाराम वहां पौधे की देखरेख और पानी देने का काम दिया जा सकता है।उल्लेखनीय है कि गत 56 माह से जेल में बंद आसाराम अब तक अपने आश्रम से मंगाए हुये भोजन का ही सेवन करता था लेकिन कल सायं से यह सिलसिला बंद हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here