उदय नारायण ने छोड़ा जदयू, नेताओं ने कहा-जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता

0
306

जदयू के वरिष्ठ नेता उदय नारायण चौधरी ने पार्टी छोड़ दिया है। उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। जदयू नेताओं ने कहा कि उनके चले जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता।
पटना । पार्टी से नाराज चल रहे जदयू के बागी नेता उदय नारायण चौधरी ने बुधवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है और पार्टी पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि दलितों की उपेक्षा की जा रही है जो सही नहीं है।उनके पार्टी छोड़ने पर जदयू नेताओं ने उनके इस कदम को गलत बताते हुए उनके द्वारा लगाए गए आरोपों को खारिज किया है। नेताओं का कहना है कि उनके पार्टी छोड़ने से कोई असर नहीं पड़ने वाला है।पार्टी नेता श्याम रजक ने कहा कि हमारे नेता नीतीश कुमार दलित के मुद्दे पर संवेदनशील हैं। पार्टी में दलितों की उपेक्षा का उदय नारायण चौधरी का आरोप गलत है। श्याम रजक ने कहा कि मैं हमेशा पार्टी के साथ था और आगे भी पार्टी के साथ रहूंगा।उदय के इस्तीफे के ऐलान के बाद जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि अभी तक पार्टी कार्यालय को इसकी कोई सूचना नहीं मिली है। आठवीं पास तेजस्वी नेता हुए हैं तो सबकुछ मौखिक ही कर रहे हैं। नीरज कुमार ने उदय नारायण चौधरी पर हमला बोलते हुए कहा कि पार्टी ने 10 साल तक विधानसभा का अध्यक्ष बीजेपी के सहयोग से ही बनाया था। उस समय उनका सिद्धांत कहां चला गया था।
इतना ही नहीं नीरज कुमार ने कहा कि जनता ने उदय नारायण चौधरी को चुनाव में ही दुर्घटनाग्रस्त कर दिया था। उन्होंने कहा कि नियोजन नहीं होने से चौधरी परेशान थे। पार्टी पर उनके जाने का कोई असर नहीं होगा। जो आदमी जनता की अदालत में ही हार चुका हो उसके जाने से पार्टी में कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है।बता दें कि पूर्व विधानसभा स्पीकर उदय नारायण चौधरी ने दलित को लेकर नीतीश सरकार की नीति के विरोध में पार्टी छोड़ी दी है। उदय नारायण ने कहा था कि जेडीयू में भगदड़ मचने वाली है।हालांकि उदय नारायण चौधरी ने ये साफ नहीं किया है कि वो आरजेडी में शामिल होगें या फिर शरद यादव के लोकतांत्रिक जनता दल में जाएंगे। उन्होंने कहा कि मैने शरद यादव को इनकार नहीं किया है। बता दें कि पिछले कई महीने से उदय नारायण चौधरी पार्टी से नाराज चल रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.