उत्तराखंड से मेरा भावनात्मक रिश्ता, यह मेरी जन्मभूमि है: योगी आदित्यनाथ

0
73

गुरु गोरक्षनाथ मंदिर में मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तराखंड से मेरा भावनात्मक रिश्ता है। यह मेरी जन्मभूमि है।
ऋषिकेश, : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तराखंड से अपने भावनात्मक रिश्ते की बात यूं ही नहीं कही। सन्यासी बनने से पूर्व अजय सिंह बिष्ट नाम के इस छात्र ने श्री भरत मंदिर इंटर कॉलेज में बारहवीं तक की शिक्षा ग्रहण की। गुरु गोरक्षनाथ मंदिर में जब उनका स्वागत करने यहां के पुरातन शिक्षक और छात्र पहुंचे।तो योगी ने हाथों से माला पहनाने के साथ अंग वस्त्र ओढ़ाया।इस वर्ष श्री भरत मंदिर इंटर कॉलेज का जनवरी माह में हीरक जयंती समारोह मनाया गया था। जिसमें पुरातन छात्र योगी आदित्यनाथ नहीं पहुंच पाए थे। रविवार को गोरक्षनाथ मंदिर आगमन पर विद्यालय के पूर्व प्रधानाचार्य कैप्टन डीडी तिवाड़ी के साथ पूर्व शिक्षक वंशीधर पोखरियाल और पुरातन छात्र रहे एसआरएचयू के कुलपति डॉ. विजय धस्माना, वचन पोखरियाल, प्रधानाचार्य डीपीएस रावत, वरूण एवं वत्सल शर्मा उनसे मिलने पहुंचे। योगी आदित्यनाथ ने कैप्टन डीडी तिवाड़ी को तुरंत पहचान लिया।
योगी आदित्‍यनाथ के पिता की तबीयत खराब, अस्‍पताल में भर्ती
गुरु के हाथों से माला लेकर योगी ने हाथों से उन्हें माला पहनाई। पूर्व शिक्षक वंशीधर पोखरियाल शॉल लेकर आए थे। योगी ने यह शॉल उन्हें ओढ़ा दी। विद्यालय परिवार की ओर से डॉ. धस्माना, विनय उनियाल आदि ने उन्हें हीरक जयंती समारोह का स्मृति चिह्न भेंट किया। योगी आदित्यनाथ ने यह वायदा किया कि वह अपने इस विद्यालय में जरूर आएंगे। इससे पूर्व कार्यक्रम के दौरान मंच की ओर एक बुजुर्ग संयासी दो संतों के सहारे जब योगी की तरफ बढ़ रहे थे, तो योगी आदित्यनाथ ने शीलनाथ समाधि मंदिर के इन बुजुर्ग पुजारी को पहचान लिया और मंच पर अपने साथ स्थान दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here