Unsafe Delhi : आंकड़ों में सच आया सामने, हर दिन लड़कियों के साथ होते हैं ये बड़े हादसे

0
88

राजधानी में हर रोज पांच महिलाएं दुष्कर्म की शिकार हो रही हैं। दिल्ली पुलिस द्वारा जारी साल के शुरुआती साढ़े तीन महीनों के आंकड़ों से दिल्ली को शर्मसार कर देने वाली यही हकीकत सामने आई है। वहीं राजधानी में हर रोज करीब 48 महिलाएं किसी न किसी अपराध का शिकार हो रही हैं। इनमें दुष्कर्म, छेड़छाड़, अश्लील इशारे, दहेज हत्या, दहेज प्रताड़ना और अपहरण जैसी वारदातें शामिल हैं। चिंताजनक पहलू यह है कि लोकलाज के डर से अधिकांश पीड़िताएं पुलिस के पास भी नहीं जाती हैं।
वर्ष 2014 2015 2016 2017 2018.
दुष्कर्म 2166 2199 2155 1968 578.
छेड़छाड 4322 5367 4165 3146 883.
अश्लील इशारे 1361 1492 918 593 182.
दहेज हत्या 153 122 162 118 49.
अपहरण 3609 4306 3867 3761 1037.
पुलिस का कहना है कि अब ऐसे मामलों में शिकायत दर्ज कराने वाले पीड़ितों की संख्या बढ़ रही है। हालांकि, पिछले साल की तुलना में इस साल छेड़छाड़ की घटनाओं में कमी आई है। साल 2017 में 15 अप्रैल तक छेड़छाड़ की 944 घटनाएं हुई थीं, जबकि इस वर्ष 883 मामले (15 अप्रैल तक) दर्ज किए गए हैं। 2016 में दुष्कर्म की 2,064 और 2017 में 2,049 घटनाएं हुईं, जबकि 2016 में छेड़छाड़ की 4,035 और 2017 में 3,273 घटनाएं दर्ज की गई थीं।पुलिस का कहना है कि पिछले साल दर्ज किए गए दुष्कर्म के 96.63 प्रतिशत मामलों में आरोपी पीड़िताओं के परिचित ही रहे हैं। वहीं, इस साल 15 अप्रैल तक राजधानी में दुष्कर्म के 578 मामले दर्ज किए गए, जबकि पिछले साल इसी अवधि में 563 मामले दर्ज किए गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here