पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव हिंसा: बीजेपी के आरोप पर तृणमूल का जवाब

0
193

कोलकाता
पश्चिम बंगाल में सोमवार को पंचायत चुनावों के दौरान बड़े पैमाने पर जारी हिंसा को लेकर भारतीय जनता पार्टी और सीपीएम ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हिंसा और अव्यवस्था का आरोप लगाया है। वहीं टीएमसी ने इन सभी आरोपों को खारिज कर दिया है। हिंसा को लेकर पक्ष-विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है।बीजेपी नेता और केंद्र सरकार में मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा, ‘सुबह से हो रही घटनाओं से जरा भी आश्चर्य नहीं हो रहा है। पश्चिम बंगाल की सरकार बेशर्म है। आप इस सरकार से यह उम्मीद नहीं कर सकते हैं कि किसी भी तरह का संवैधानिक व्यवहार करे। मैं प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करता हूं।’वहीं पश्चिम बंगाल के बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव का मतदान चल रहा है। पिछले 24 घंटों में 4 और राजनीतिक कार्यकर्ताओं की हत्या हो गई। सरकार के मंत्री रविन्द्र घोष ने पोलिंग बूथ पर बीजेपी के कार्यकर्ताओं को मारा।’वहीं तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सांसद डेरेक ओ’ब्रायन ने हिंसा के लिए बीजेपी और सीपीएम को ही जिम्मेदार ठहराते हुए कहा, ‘सीपीएम और बीजेपी चुनाव को लेकर हताश हो चुके हैं। वे लोग पूरे प्रदेश भर में तृणमूल वर्कर्स पर हमला करने के लिए माओवादियों का सहारा ले रहे हैं। जानबूझकर समस्या खड़ी की जा रही है। क्या यही लोकतंत्र है?’बीजेपी के इन आरोपों पर तृणमूल कांग्रेस के सीनियर नेता पार्थ चटर्जी ने कहा, ‘हिंसा की छिटपुट वारदात ही हुई है। किसी भी बड़ी घटना की रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। जहां-जहां हिंसक घटनाएं हो रही हैं, वहां प्रशासन मुस्तैद है। मतदान शांतिपूर्वक तरीके से हो रहा है। पत्रकारों पर जो हमले हुए, उसकी मैं कड़ी निंदा करता हूं।’वहीं मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) के नेता सीताराम येचुरी ने भी प्रदेश में जारी हिंसा पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘मैं लोकतंत्र में इस तरह के खून-खराबे को देखकर आश्चर्यचकित हूं। देश को बचाने के लिए फासीवादी ताकतों को रोकना होगा।’ अमडंगा के ही पांचपोटा में बम धमाके में एक सीपीएम कार्यकर्ता की मौत हो गई जबकि दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। इससे पहले शनिवार को सीपीएम के एक कार्यकर्ता देबू दास और उसकी पत्नी ऊषा दास को जलाकर मार डालने की घटना भी सामने आई है। पार्टी ने घटना के लिए टीएमसी कार्यकर्ताओं को जिम्मेदार ठहराया है।बता दें पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव के लिए सोमवार को जारी वोटिंग के दौरान भारी हिंसा की खबरें लगातार आ रही हैं। अलग-अलग स्थानों पर हुई झड़पों में 40 से अधिक लोग घायल हो गए हैं, जबकि 6 लोगों की जान चली गई है। राज्य के कई हिस्सों से बूथ कैप्चरिंग, वोटरों को धमकाने और बैलट इधर-उधर करने की घटनाएं सामने आ रही हैं। बैरकपुर में बीजेपी के एक प्रत्याशी की चाकू मारकर हत्या कर दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.