मौसम अलर्टः 6 राज्यों में आज भी आ सकता है तूफान, कल की आंधी से 75 की मौत

0
113

मौसम विभाग ने सोमवार को उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिमी उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर के कुछ इलाकों में आंधी-तूफान के साथ बारिश की चेतावनी दी है। वहीं इससे पहले रविवार को दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में आंधी के साथ बारिश ने जमकर कोहराम मचाया। इस आंधी और तूफान के कारण देश में मरने वालों की संख्या बढ़कर अब 75 हो गई है। उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश के कई हिस्सों में आई तेज आंधी से हुए जानमाल के नुकसान पर दुख व्यक्त किया।मौसम विभाग ने जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के दूरदराज के इलाकों में तेज हवाओं के साथ आंधी और बादल गरजने की चेतावनी दी है। इन इलाकों में 50-70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं।वहीं पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तरप्रदेश, पश्चिम बंगाल, झारखंड, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, तेलांगना, रायलसीमा, दक्षिण कर्नाटक के आंतरिक इलाकों, तमिलनाडु और पुडुचेरी में तेज हवाओं के साथ आंधी की चेतावनी दी गई है। इसके अलावा ओडिशा के दूरदराज के इलाकों में भारी बारिश का अलर्ट। राजस्थान के कई इलाकों में धूलभरा तूफान उठ सकता है।
जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के दूरदराज के इलाकों में तेज हवाओं के साथ तूफान का अलर्ट, ओले भी गिर सकते हैं। ओडिशा और दक्षिण कर्नाटक के आंतरिक हिस्सों में तेज हवाओं के साथ आंधी का अलर्ट दिया गया है। राजस्थान और विदर्भ के कुछ इलाकों में लू के थपेड़े परेशान करेंगे।इससे पहले मौसम विभाग ने कहा था कि पश्चिमी विक्षोभ (वेस्टर्न डिस्टर्बेंस) के असर से उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में आंधी-तूफान का खतरा बना हुआ है। मौसम विभाग ने 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तूफान आने की चेतावनी जारी की थी।उत्तर प्रदेश के राहत व बचाव कार्य के कमिश्नर संजय कुमार ने बताया कि प्रदेश में आंधी और बारिश से अब तक 50 लोगों की मौत हो गई। जबकि 83 लोग घायल हुए हैं। उन्होंने बताया कि अगले 24 घंटे में सभी मुआवजा देने के आदेश दे दिये गए हैं।वहीं पश्चिम बंगाल में आंधी के कारण चार बच्चों समेत कम से कम 12 लोग मारे गये। आंध्र प्रदेश में नौ और दिल्ली में दो लोगों की जान चली गई। जबकि बिहार के छपरा में भी दो लोगों की जान चली गई।दिल्ली समेत उत्तर भारत में कई जगहों पर आई प्रचंड आंधी के कारण बड़ी संख्या में पेड़ गिर गये , सड़क , रेल एवं वायु यातायात सेवाएं प्रभावित हुईं। मौसम विभाग के अनुसार हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, मध्य प्रदेश, झारखंड, असम, मेघालय, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु में छिटपुट स्थानों पर कल आंधी के साथ बारिश हुई।” देश के कुछ हिस्सों में आंधी के कारण लोगों की मौत होने से दुखी हूं। शोक संतप्त परिजनों को मेरी संवेदनाएं। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की ईश्वर से प्रार्थना करता हूं।आंधी की वजह से लोगों की मौत पर दुख प्रकट करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर पार्टी कार्यकर्ताओं से मृतकों के शोक संतप्त परिवारों को हर संभव मदद करने के लिये कहा।आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड और पंजाब में करीब दस दिन पहले भी तूफान आया था जिसमें 134 लोगों की मौत हुई थी और 400 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे। इसके बाद नौ मई को उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में फिर से अंधड़ आया था जिसमें 18 लोगों की मौत हो गई और 27 अन्य जख्मी हो गए थे। अधिकारियों ने बताया कि उत्तर प्रदेश में आंधी के कारण 18 लोगों की मौत हो गयी जबकि 28 लोग घायल हो गये।दिल्ली एवं आसपास के इलाकों में 109 किलो मीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चली धूल भरी आंधी और तेज हवाओं के कारण दो लोगों की मौत हो गयी और 18 लोग घायल हो गये। इसके चलते विमान, रेल और मेट्रो के परिचालन पर असर पड़ा।पश्चिम बंगाल के आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य में भारी बारिश के बीच आसमानी बिजली गिरने से चार बच्चों समेत कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई, जबकि 15 से ज्यादा लोग घायल हो गये। अधिकारियों ने बताया कि आंध्र प्रदेश में आसमानी बिजली की गिरने से नौ लोगों की मौत हो गई।राष्ट्रीय राजधानी में कल शाम करीब साढ़े चार बजे मौसम ने करवट ली और आसमान में अंधेरा छा गया। इसके बाद आंधी चलने लगी और बारिश होने लगी। इस वजह से पारा 25.2 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि दिल्ली में अंधड़ तब आया जब तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस तक चला गया था और सुबह के वक्त आर्द्रता का स्तर 60 प्रतिशत था।राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र की प्रमुख के एस देवी ने कहा कि तूफान आने की वजह दो पश्चिमी विक्षोभ हैं। निजी मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के अध्यक्ष ( मौसम विज्ञान) जीपी शर्मा ने बताया कि दिल्ली के ऊपर घने बादल छाये रहे। इसका असर ना सिर्फ दिल्ली बल्कि पानीपत , झज्जर , रोहतक , हरियाणा एवं उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में रहा। शर्मा और देवी ने दोनों ने आज भी मौसम के कल तरह ही रहने का अनुमान जताया है। मौसम कार्यालय ने आज उत्तर प्रदेश के 26 जिलो में 70 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चलने की आशंका जताई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here