ब्लास्ट कर नक्सलियों ने की भागने की कोशिश, कैदी वैन के ड्राइवर ने किया प्लान फेल

0
97

पटना.बेऊर जेल में बंद नक्सली संगठन पीएलएफआई के दो नक्सलियों (सोनू और सिकंदर) ने मंगलवार दोपहर को बम ब्लास्ट कर भागने की कोशिश की, लेकिन कैदी वैन के ड्राइवर की बहादुरी से उनका प्लान फेल हो गया। दोनों नक्सलियों को पेशी के लिए पटना सिटी कोर्ट ले जाया गया था।लौटने के दौरान बेऊर थाना क्षेत्र के दशरथा के लारा पेट्रोल पंप के पास कैदियों ने वैन के अंदर विस्फोट कर दिया। एक के बाद एक चार-पांच बम फोड़े गए। कैदियों की साजिश थी कि विस्फोट होने पर वैन रुक जाएगी और वे भाग जाएंगे, लेकिन वैन के ड्राइवर ने ऐसा न होने दिया। वह तेजी से ड्राइव करते हुए वैन को बेऊर जेल के अंदर ले गया। धमाके की चपेट में आकर एक कैदी और एक सिपाही गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को इलाज के लिए हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है।
भागने की फिराक में थे कैदी
मिली जानकारी के मुताबिक बेऊर जेल से कैदियों को वैन से पटना सिटी कोर्ट ले जाया गया था। कोर्ट में सुनवाई के बाद सभी कैदी वाहन में सवार हुए। वाहन जैसे ही कैदियों को लेकर बेऊर जेल से पास पहुंचा, अंदर बैठे दो कैदियों ने बम ब्लास्ट कर दिया। इसमें एक पुलिसकर्मी और कैदी गंभीर रूप से घायल हो गए। बम ब्लास्ट करने के बाद कैदी मौके से भागने की फिराक में थे, लेकिन वाहन में मौजूद पुलिसकर्मियों ने उन्हें पकड़ लिया। वाहन चला रहे ड्राइवर ने स्पीड तेज कर दी, जिससे कैदी भागने में सफल नहीं हुए। ड्राइवर कैदियों को लेकर तुरंत बेऊर जेल पहुंच गया। बेऊर जेल पहुंचते ही वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने वैन को घेर लिया। सभी कैदियों को चाक चौबंद सुरक्षा के बीच जेल में ले जाया गया।
जेल में की गई छापेमारी
घटना के बाद एसएसपी मनु महाराज बेऊर जेल पहुंचे। मनु महाराज ने बताया कि शुरुआती जांच में पता चला है कि वाहन के अंदर बम ब्लास्ट हुआ है। कैदियों की साजिश थी कि बम ब्लास्ट कर मौके से फरार हो जाएं। घटना के बाद बेऊर में सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई है। पुलिस लाइन से सैफ जवानों को बुलाया गया है। कई थानों की पुलिस बेऊर जेल में मौजूद है। जेल के अंदर छापेमारी की जा रही है। कैदियों से पूछताछ की जा रही है।
कैदी के पास कैसे पहुंचा बम, जांच का विषय
नक्सली संगठन पीएलएफआई के सदस्य सोनू और सिकंदर को पेशी के लिए कोर्ट ले जाया गया। कोर्ट जाने और लौटने के क्रम में वैन में कैसे बम पहुंच गया यह जांच का विषय है। कैदी के पास बम पहुंच गया और उनकी निगरानी के लिए तैनात पुलिसकर्मियों को इसकी भनक तक नहीं लगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here