कर्नाटक पर आज सुप्रीम सुनवाई, सबकुछ कोर्ट के अंतिम फैसले पर निर्भर

0
113

कर्नाटक में सरकार गठन पर सुप्रीम कोर्ट में आधी रात से गुरुवार सुबह तक चली ऐतिहासिक सुनवाई के बाद शुक्रवार सुबह फिर सुप्रीम सुनवाई होगी।देर रात दो बजकर 11 मिनट से गुरुवार सुबह पांच बजकर 58 मिनट तक चली सुनवाई के बाद शीर्ष कोर्ट ने यह स्पष्ट किया कि राज्य में शपथ ग्रहण और सरकार के गठन की प्रक्रिया न्यायालय के समक्ष इस मामले के अंतिम फैसले पर निर्भर करेगतीन घंटे से भी ज्यादा तक चली सुनवाई के बाद भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा के कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस एके सीकरी, एसए बोब्डे और जस्टिस अशोक भूषण की एक मध्यरात्रि पीठ ने केंद्र को भाजपा की ओर से प्रदेश के राज्यपाल वजुभाई वाला के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए भेजे गए 15 और 16 मई के दो पत्र कोर्ट में पेश करने के लिए कहा है।पीठ ने कांग्रेस और जद एस की याचिका पर कर्नाटक सरकार तथा येद्दियुरप्पा को नोटिस जारी करते हुए इस पर जवाब मांगा है और मामले की सुनवाई कल शुक्रवार के लिए तय कर दी।
जेठमलानी भी पहुंचे सुप्रीम कोर्ट
कर्नाटक के राज्यपाल के फैसले को पूर्व कानून मंत्री और वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी ने भी गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे दी। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय पीठ ने राम जेठमलानी की दलीलों पर विचार किया।पीठ ने जेठमलानी से कहा कि वह न्यायमूर्ति ए के सिकरी की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय विशेष खंडपीठ के सामने अपनी दलीलें रख सकते हैं जब कांगेस की याचिका पर आगे सुनवाई होगी। वरिष्ठ अधिवक्ता ने कहा कि कर्नाटक के राज्यपाल का आदेश सांविधानिक अधिकार का दुरुपयोग है। उन्होंने कहा कि वह किसी पार्टी के पक्ष या विरोध में नहीं आए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here