जानें आखिर छात्रा की जगह रोबोट ने क्यों ली स्नातक की डिग्री

0
54

स्नातक की पढ़ाई पूरी होने के साथ ही हर छात्र को उस पल का इंतजार होता है, जब उसके हाथों में डिग्री थमाई जाएगी। अमेरिका की सिंथिया पेटवे भी महीनों से इस पल की प्रतीक्षा में बैठी थीं। हालांकि दीक्षांत समारोह से ऐन पहले वह इस कदर बीमार पड़ गईं कि उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। डिग्री ग्रहण करने का बेटी का सपना अधूरा न रह जाए, इस बाबत सिंथिया की मां यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ अलबामा पहुंचीं। उन्होंने प्रबंधन को मनाया कि वह सिंथिया के स्थान पर एक रोबोट को स्टेज पर जाकर डिग्री लेने की इजाजत देगा।
दूर होकर भी समारोह में मौजूद थीं सिंथिया
-सिंथिया यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ अलबामा से कोसों दूर होने के बावजूद अपने दीक्षांत समारोह के पल-पल की गवाह बनीं। दरअसल, उनकी जगह पहियों पर चलने वाले जिस स्वचालित रोबोट को स्टेज पर भेजा गया था, वह एक स्क्रीन से लैस होने के साथ ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा के जरिये अलबामा हॉस्पिटल से जुड़ा था। यही नहीं, अस्पताल में सिंथिया के कमरे में एक बड़ी स्क्रीन लगाकर समारोह का लाइव प्रसारण भी किया जा रहा था, ताकि वह डिग्री हासिल करने की खुशी को करीब से महसूस कर सकें।
रोबोट के स्टेज पर पहुंचते ही भावुक हो गईं
-डिग्री लेने के लिए सिंथिया का नाम पुकारे जाने पर जब एक रोबोट स्टेज पर पहुंचा तो पूरा समारोह स्थल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। सहपाठी ‘सिंथिया-सिंथिया’ के नारे लगाने लगे। इसके बाद कुलपति ने जैसे ही रोबोट को डिग्री थमाई, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये शिक्षकों और सहपाठियों से रूबरू हो रहीं सिंथिया रो पड़ीं। उन्होंने नम आंखों से सबका आभार जताते हुए इसे जिंदगी का सबसे यादगार पल करार दिया। सिंथिया के साथ अस्पताल में मौजूद कर्मचारी और मरीज भी अपने आंसू नहीं रोक पाए।
खास ड्रेस में तैयार
-सिंथिया की मां ने रोबोट के लिए हरे रंग की वैसी ही पोशाक तैयार करवाई थी, जो दीक्षांत समारोह में शामिल होने वाले अन्य छात्र पहनन वाले थे। उन्होंने रोबोट को लाल रंग का खास स्टोल भी पहनाया था, जो सिंथिया को बेहद पसंद था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here