कर्नाटक में क्यों नहीं बच पायी येदियुरप्पा सरकार

0
84

कर्नाटक में अस्पष्ट बहुमत मिलने और उसके बाद सरकार बनाने के लेकर दावों और कयासों के बीच भले ही राज्यपाल वजुभाई वाला ने बीजेपी के सीएम उम्मीदवार येदियुरप्पा को सरकार बनाना का मौका दिया हो, लेकिन उन्होंने फ्लोर टेस्ट पर बहुमत साबित करने से पहले ही इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने से पहले येदियुरप्पा ने भावुक भाषण देकर कांग्रेस और जेडीएस पर जमकर निशाना साधा।येदियुरप्पा ने यह इस्तीफा सुप्रीम कोर्ट की तरफ से ट्रस्ट वोट कराने को लेकर दिए गए समय से कुछ मिनट पहले और मुख्यमंत्री पद संभालने के के दो दिन बाद दिया है।येदियुरप्पा ने कर्नाटक विधानसभा में अपने भाषण के दौरान कहा- “जनता ने 104 सीटें दी। यह जनादेश कांग्रेस ये जेडीएस के लिए नहीं था। राज्यपाल ने हमें इसलिए सरकार बनाने का न्यौता दिया क्योंकि हम सबसे बड़ी पार्टी थे। मैं अपने जीवन के आखिरी सांस तक कर्नाटक की जनता के लिए काम करूंगा।” उन्होंने कहा- “मैं मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे रहा हूं। मैं स्पीकर का आभार व्यक्त करता हूं जिन्होंने मुझे यह मौका दिया।”
शनिवार 4 बजे करना था बहुमत साबित
कर्नाटक विधानसभा में 104 सीटें जीतकर सरकार बनाने का दावा करनेवाले येदियुरप्पा को राज्यपाल वजुभाई वाला की तरफ से बहुमत साबित करने के लिए 15 दिनों का समय दिया गया था। लेकिन, राज्यपाल की तरफ से येदियुरप्पा को सरकार बनाने का मौका देने के खिलाफ कांग्रेस ने शीर्ष अदालत से गुहार लगाई और आधी रात को कोर्ट की सुनवाई चली। उसके बाद, सुप्रीम कोर्ट से शुक्रवार को कांग्रेस को उस वक्त बड़ी राहत मिली जब आदेश में अदालत ने येदियुरप्पा को बहुमत साबित करने के लिए समय सीमा को 15 दिनों से घटाकर 24 घंटा कर दिया।
येदियुरप्पा सरकार ने मांगी थी और समय
हालांकि, येदियुरप्पा की तरफ से पेश हुए सॉलिसीटर जनरल मुकुल रोहतगी ने यह दलील दी कि उन्हें बहुमत साबित करने के लिए और वक्त दिया जाए। लेकिन, शीर्ष अदालत अपने रूख पर कायम रही। हालांकि, उसके बाद येदियुरप्पा समेत बीजेपी के कई नेताओं ने फ्लोर टेस्ट में बहुमत साबित करने का दावा भी किया।
किसको मिली थी कितनी सीटें
इससे पहले मंगलवार को एक कर्नाटक के नतीजों में बीजेपी को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 37 सीटें मिली थी। जबकि, एक सीट जेडीएस की सहयोगी बीएसपी को मिली थी। जबकि एक अन्य सीट स्थानीय पार्टी को और एक निर्दलीय को मिली थी। कर्नाटक विधानसभा की 224 में से 222 सीटों पर मतदान 12 मई को हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here