बारिश से गिरा पारा, पर उमस के कारण गर्मी से राहत नहीं

0
17

पटना. नेपाल और यूपी के बॉर्डर से शुरू हुआ लोकल थंडर स्टॉर्म बिहार पहुंचते-पहुंचते तूफान में परिवर्तित हो गया। नेपाल और पश्चिम बंगाल से आ रही नमी के कारण प्रदेश में आर्द्रता 70 फीसदी पर पहुंच जा रही है। बिहार के पड़ोसी राज्यों में बन रहा लोकल थंडर स्टॉर्म ही बिहार में आंधी-पानी ला रहा है। शनिवार देर रात 12:45 बजे मौसम अचानक बदला और तेज हवा के साथ बारिश शुरू हो गई। मौसम विज्ञान केंद्र पटना ने जानकारी दी है कि इस दौरान पछुआ हवा की रफ्तार 50 किलोमीटर को पार कर गई। राजधानी में कई इलाकों के पेड़ उखड़ गए। तीन मिमी बारिश से गर्मी से राहत मिली। पटना का अधिकतम तापमान शनिवार के मुकाबले एक डिग्री नीचे गिरकर 36.1 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया।
फेल हो रहा मौसम विभाग
– मौसम विज्ञान केंद्र पटना की भविष्यवाणी लगातार फेल हो रही है। मौसम वैज्ञानिक बताते हैं कि लोकल थंडर स्टॉर्म की जानकारी अब सीधे लोगों को नहीं दी जाती। मौसम विभाग आपदा प्रबंधन को तूफान आने के दो घंटे पहले जानकारी देता है। इसके बाद रजिस्टर्ड नंबर पर मैसेज भेजा जाता है। पिछले चार दिनों में राजधानी में आए तूफान की जानकारी मौसम विभाग ने भी नहीं दी।
– मौसम विभाग का पूर्वानुमान भी लगातार गलत हो रहा है। शनिवार को देररात तक हुई बारिश के कारण रात का तापमान सामान्य से चार डिग्री नीचे गिरकर 21.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया है। हालांकि, रविवार रात से फिर से उमस भरी गर्मी होने की संभावना है।
तीन मिमी बारिश से ही जलजमाव
शनिवार रात हुई तीन मिमी बारिश से ही राजधानी के निचले इलाकों में पानी भर गया है। नाला उड़ाही के दौरान ही निगम की लीपापोती लोगों के सामने है। कंकड़बाग अंचल की कई सड़कों पर पानी भर गया है। रामकृष्णानगर गैस गोदाम के बाद भीषण जलजमाव से लोग परेशान हैं। सड़क से गुजरना मुश्किल है। पिछली बारिश में भी यहां इसी तरह के हालात रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here