ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों के गुड न्यूज, अब हर काम के लिए होगा एक ही फॉर्म

0
366

अब एक ही फॉर्म नंबर-2 भरना होगा। दिल्ली परिवहन विभाग ने अपने डीएल के अलग-अलग फॉर्म को मिलाकर तीन पन्ने का एक फॉर्म बनाया है।पहले अस्थायी डीएल बनवाने, उसे पक्का कराने, उसके नवीनीकरण आदि के लिए अलग-अलग फॉर्म भरने पड़ते थे। परिवहन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि डीएल का यह फॉर्म पूरे देश में लागू होगा। इसके अलावा फॉर्म के प्रारूप में बदलाव के साथ विभाग ने डीएल के लिए आधार अनिवार्य कर दिया है। साथ ही मोबाइल नंबर भी अनिवार्य कर दिया गया है। आधार व मतदाता पहचान पत्र को अब जन्म प्रमाण पत्र भी माना जाएगा। अभी तक दोनों को सिर्फ एड्रेस प्रूफ के रूप में मान्यता मिली हुई थी।आधार अनिवार्य होने से डीएल को लेकर होने वाले फर्जीवाड़े पर भी रोक लगेगी। अभी बहुत से लोग देश में अलग-अलग जगहों से डीएल बनवा लेते है। मगर, एक बार आधार जुड़ जाने से वह देश में सिर्फ एक डीएल ही बनवा पाएंगे। दिल्ली में एमएलओ आफिस में हर वर्ष डीएल से संबंधित पांच लाख आवेदन आते हैं।फॉर्म में आवेदन के दौरान विभाग आवेदक से पूछेगा कि क्या वह मृत्यु के बाद अंगदान के इच्छुक हैं? अगर आवेदक इसे कॉलम में हां लिखता है तो उसके डीएल में उसके अंगदान की इच्छा को लिखा जाएगा। विभाग का तर्क है कि अभी देशभर के सड़क हादसों में हर साल 1.5 लाख लोगों की मौत हो जाती है। अकेले दिल्ली में करीब 1500 लोग हर साल सड़क हादसे में अपनी जान गंवा देते हैं। मरने वालों के डीएल में अगर अंगदान की जानकारी हो तो हम उनसे दूसरे कई लोगों की जान बचा सकते हैं। क्योंकि समय पर उनके शरीर के कई अंगों को प्रिजर्व किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here