सद्दाम हुसैन का सोने का जहाज होगा होटल में तब्दील, दो साल से नहीं मिला कोई खरीदार

0
211

इराक के पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन के 82 मीटर लंबे सोने के जहाज ‘बासराह ब्रीज’ का लुत्फ आम लोग भी उठा सकेंगे। इसकी देखभाल करने वाले प्राधिकरण ने इस संबंध में यह फैसला किया है। बसरा तट पर सुरक्षा घेर में खड़े इस जहाज को रखा गया है। इस सुपर यॉट में शानदार प्रेसिडेंशियल सुइट समेत मेहमानों के लिए 17 कमरे भी हैं। इसमें सद्दाम के लिए एक विशेष सैलून भी है। मगर अफसोस इस शानदार सुपर यॉट पर सद्दाम हुसैन कभी सवार नहीं हो सके।पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैने ने सुपर यॉट 1981 में अपने लिए खास तौर पर बनवाया था। लेकिन खाड़ी में लंबे समय तक चले इराक-ईरान युद्ध के कारण उन्हें इस पर सवारी का मौका नहीं मिला। वर्ष 1990 में कुवैत हमले के बाद इस जहाज को जार्डन को दिया गया था। लेकिन तीन साल की कानूनी लड़ाई के बाद इसे वर्ष 2010 में जार्डन ने इराक को सुपर यॉट वापस लौटा दिया।वर्तमान में बाहर से बदहाल दिखने वाले ‘बासराह ब्रीज’ का किंग साइज बेड, सिल्क लगे पर्दे और विशेष सैलून आज भी उस पर किसी के आने का इंतजार कर रहा है। फिलहाल इस शानदार यॉट का आनंद इस पर तैनात पॉयलट उठा रहे हैं। इस संबंध में जहाज पर तैनात कैप्टन का कहना है कि यॉट अच्छी हालत में है, बस थोड़े से रखरखाव की आवश्यकता है।अमेरिका के वर्ष 2003 हस्तक्षेप के बाद सद्दाम हुसैन के हाथों से सत्ता छिन जाने और वर्ष 2006 में फांसी के बाद सुपर यॉट को लेकर अभी तक अनिश्चितता बनी रही। जिसके कारण इस जहाज का रखरखाव ठीक तरीके से नहीं हो सका। बसरा संग्रहालय इस जहाज को अपने संग्रहालय में रखना चाहता है ताकि आने वाली पीढ़ी यह जान सके कि तानाशाह सद्दाम हुसैन कैसे रहता था। इसके लिए वह कानूनी लड़ाई भी जारी रखे हुए है।
दो साल में खरीदार नहीं मिला
करीब तीन करोड़ डॉलर (30 मिलियन डॉलर) कीमत के जहाज का दो साल तक खरीदार नहीं मिलने के बाद इसे बसरा विश्वविद्यालय इसका उपयोग समुद्री जीवन पर शोध के लिए किया जाने लगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here