तूतीकोरिन हिंसा: वेदांता के चेयरमैन अनिल अग्रवाल ने जताया दुख

0
103

वेदांता समूह के चेयरमैन अनिल अग्रवाल ने तूतीकोरिन हिंसा में 12 लोगों की मौत की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। ट्विटर पर दिए वीडियो संदेश में अग्रवाल ने कहा कि कंपनी लोगों की मर्जी से संयंत्र में फिर से काम शुरू करना चाहती है।वर्तमान में, संयंत्र को फिर से शुरू करने के लिए कंपनी न्यायालय और सरकार की मंजूरी का इंतजार कर रही है। फिलहाल वार्षिक मरम्मत के चलते कारखाने को बंद रखा गया है। अग्रवाल ने कहा, घटना के बारे में सुनकर मैं दुखी हूं, यह वाकई में दुर्भाग्यपूर्ण है। मृतकों के परिवारों के साथ मेरी पूरी सहानुभूति है। अग्रवाल ने पर्यावरण और तुतीकोरिन तथा तमिलनाडु के लोगों के विकास की कंपनी की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए कहा, हम कानून का पालन करेंगे।सुप्रीम कोर्ट में तमिलनाडु के तूतीकोरिन में स्टरलाइट के खिलाफ रैली के दौरान प्रदर्शनकारियों की मौत के मामले में अदालत की निगरानी में सीबीआई जांच कराने की मांग वाली एक जनहित याचिका गुरुवार को दायर की गई। वकील जीएस मणि ने याचिका दायर की जिस पर अगले सप्ताह सुनवाई हो सकती है।याचिका में तूतीकोरिन जिलाधीश, पुलिस अधीक्षक और अन्य पुलिस अधिकारियों के खिलाफ हत्या के अपराध के लिए प्राथमिकी दर्ज करने का अनुरोध भी किया गया है। इसमें तूतीकोरिन, तिरुनेलवेली और कन्याकुमारी जिलों में इंटरनेट सेवाओं को बहाल करने की भी मांग की गई है।तमिलनाडु के तूतीकोरिन में हुई हिंसा के मद्देनजर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की। तूतीकोरिन में हुई हिंसा में 12 लोगों की जान जा चुकी है। गृह मंत्री ने कहा कि तूतीकोरिन में पुलिस गोलीबारी एवं तटीय शहर में मौजूदा स्थिति पर गृह मंत्रालय ने तमिलनाडु सरकार से रिपोर्ट मांगी है। सूत्रों ने कहा कि केंद्र को इस तरह के संकेत मिले हैं कि तूतीकोरिन में हिंसा के पीछे कोई बड़ी साजिश हो सकती है। केंद्र सरकार ने राज्य सरकार को सभी पहलुओं पर रिपोर्ट देने को कहा है। सूत्रों ने कहा, चुनावी साल में इस तरह की हिंसा की घटना पर केंद्र सरकार काफी गंभीर और चिंतित है। राजनाथ ने कहा कि तमिलनाडु के तूतीकोरिन में आंदोलन के दौरान बहुमूल्य जानें जाने से मैं बेहद व्यथित हूं। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

तू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here