‘एक्ट ईस्ट’ को मजबूती देने इंडोनेशिया पहुंचे PM मोदी, विदोदो के साथ शिखर वार्ता आज

0
46

पूर्वी एशिया के देशों के साथ संबंधों को और प्रगाढ़ करने की ‘एक्ट ईस्ट’नीति के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को तीन देशों की यात्रा के पहले पड़ाव इंडोनेशिया पहुंच गए। वह इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विदोदो के साथ बुधवार को द्विपक्षीय शिखर वार्ता करेंगे। प्रधानमंत्री इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विदोदो, सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली हेसिन लूंग के न्योते पर इन दोनों देशों का दौरा कर रहे हैं। पांच दिवसीय यात्रा के दौरान वह कुछ घंटों के लिए मलेशिया की राजधानी क्वाललांपुर भी जाएंगे, जहां पर वह नव निर्वाचित प्रधानमंत्री डॉ.महातिर मुहम्मद से मुलाकात करेंगे।मोदी ने जकार्ता पहुंचने के तुरंत बाद इंडोनेशियाई भाषा और अंग्रेजी में ट्वीट किया, जर्काता पहुंचा। भारत और इंडोनेशिया मित्रवत समुद्री पड़ोसी हैं, जिनके बीच गहरे सभ्यतागत रिश्ते हैं। यह यात्रा हमारे राजनीतिक,आर्थिक और सामरिक हितों को आगे बढ़ाएगी। बता दें कि वह बुधवार को विदोदो के साथ द्विपक्षीय शिखर वार्ता करेंगे। इस दौरान समुद्री सुरक्षा, व्यापार, रक्षा, सांस्कृतिक और अन्य द्विपक्षीय व अंतराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा करेंगे। इस दौरान कई समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने की भी संभावना है।प्रधानमंत्री मोदी अपने तीन दिवसीय इंडोनेशिया प्रवास के दौरान राष्ट्रपति विदोदो के साथ कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। इनमें सीईओ बिजनेस फोरम की बैठक भी शामिल है।
सबांग द्वीप तक रणनीतिक पहुंच एजेंडे में
जानकारों की मानें तो वार्ता के दौरान इंडोनेशिया के सुमात्रा के उत्तर में स्थित सबांग द्वीप तक भारत को रणनीतिक पहुंच देने पर समझौता हो सकता है। हाल में इंडोनेशिया के समुद्री मामलों के समन्वय मंत्री लुहात पंडजियातन ने नई दिल्ली के दौरे के दौरान इसपर सकारात्मक रुख रखने की बात कही थी।
भाजपा ने चार साल पूरे होने पर गिनाई केंद्र सरकार की उपलब्धियां
ये मुद्दें भी वार्ता के केंद्र में
प्रधानमंत्री मोदी के जकार्ता दौरे के दौरान इंडोनेशिया के बंदरगाहों और विशेष आर्थिक क्षेत्र में भारतीय निवेश पर भी समझौता हो सकता है। इससे भारत को हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपना प्रभाव बढ़ाने में मदद मिलेगी। बता दें कि चीन इस क्षेत्र में अपना प्रभुत्व बढ़ाने की कोशिश कर रहा है।
प्रधानमंत्री की पहली इंडोनेशिया यात्रा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यह पहली आधिकारिक इंडोनेशिया यात्रा है। जकार्ता रवाना होने से एक दिन पहले मोदी ने सोमवार को फेसबुक पर लिखा, प्रधानमंत्री के रूप में यह मेरी पहली इंडोनेशिया यात्रा है। राष्ट्रपति विदोदो के साथ 30 मई को बातचीत का इंतजार है। साथ ही भारत -इंडोनेशिया सीईओ फोरम में हमारा संयुक्त वार्तालाप होगा। मैं इंडोनेशिया में भारतीय समुदाय को भी संबोधित करूंगा। उन्होंने कहा कि भारत और इंडोनेशिया के बीच मजबूत और दोस्ताना संबंध हैं और उनके बीच ऐतिहासिक व प्राचीन जुड़ाव रहा है।
1 जून को सिंगापुर से वार्ता
प्रधानमंत्री 31 मई को सिंगापुर पहुंचेंगे और 1 जून को वार्षिक सुरक्षा सम्मेलन ‘शांगरी ला’ वार्ता को संबोधित करेंगे। उन्होंने सोमवार को कहा, पहली बार कोई भारतीय प्रधानमंत्री इस सम्मेलन को संबोधित करेगा। क्षेत्रीय सुरक्षा मुद्दों तथा क्षेत्र में शांति एवं स्थिरता कायम रखने के बारे में यह भारत के विचारों को व्यक्त करने का अवसर होगा। इसी दिन वह सिंगापुर के राष्ट्रपति हलीमा याकूब से मुलाकात करेंगे और सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली हेसिन लूंग के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता करेंगे। मोदी 2 जून को क्लीफोर्ड पियर में एक पट्टिका का अनावरण करेंगे जहां 27 मार्च 1948 को महात्मा गांधी की अस्थियों का विसर्जन किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here