तेजस्वी ने दिया कुशवाहा को महागठबंधन में आने का न्योता, ट्वीट कर विरोधियों पर तंज

0
115

तेजस्‍वी यादव ने उपेंद्र कुशवाहा को महागठबंधन में आने का न्‍यौता दिया। कहा कि राजग में कुशवाहा की राजनीति के लिए कोई जगह नहीं है।
पटना। नई दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात करके लौटे नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने शुक्रवार को रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा को महागठबंधन में आने का न्योता दिया। उन्होंने कहा कि कुशवाहा की राजनीति के लिए राजग में कोई जगह नहीं बची है। वह बड़े नेता हैं और भाजपा की विचारधारा से अलग लाइन रखते हैं।राजद की ओर से कुशवाहा को पहली बार खुला ऑफर दिया गया है। तेजस्वी के मुताबिक अगर वह गठबंधन बदलने का मूड बनाते हैं तो हमें भी कोई आपत्ति नहीं होगी। विदित हो कि एक दिन पहले दिल्ली में तेजस्वी ने राहुल गांधी से मुलाकात के दौरान बिहार की राजनीति के बारे में विस्तार से बात की थी। इस दौरान दोनों नेताओं का जोर महागठबंधन को मजबूत करने पर था।राजग में सीट बंटवारे के मुद्दे पर खींचतान के मुद्दे पर तेजस्वी ने कहा कि जदयू और लोजपा अधिक से अधिक सीटों के लिए भाजपा पर दबाव बना रही है, लेकिन उन्हें कोई फायदा नहीं होगा। भाजपा उन्हें उतनी सीटें नहीं देने जा रही है, जितने की अपेक्षा है।मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीडऩ मामले में तेजस्वी ने ट्वीट करके सुशील मोदी और नीतीश कुमार की चुप्पी पर सवाल उठाया है। उन्होंने लिखा कि दोनों नेता कुछ बोल क्यों नहीं रहे? किन-किन मंत्रियों व सरकारी अधिकारियों के पास नाबालिग बच्चियों को भेजा जाता था? खुलासा करने में किससे डर है?बता दें कि मुजफ्फरपुर के सरकारी बालिका गृह में लड़कियों से यौनशोषण मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। पीड़ित लड़कियों का मेडिकल टेस्ट कराया गया है जिसमें तीन लड़कियां गर्भवती पाई गई हैं। डॉक्टर की रिपोर्ट आने के बाद हड़कंप मच गया है।बताया जाता है कि रिमांड होम में रहनेवाली लड़कियों को बाहर भेजा जाता था और इस गृह का संचालक खुद भी लड़कियों का शोषण करता था। पिछले कई साल से इस बालिकागृह में घिनौना खेल चल रहा था, जिसका खुलासा टाटा इंस्टीच्यूट ऑफ सोशल साइंस, मुंबई की ‘कोशिश’ टीम ने साहू रोड स्थित उक्त बालिका गृह में बालिकाओं के साथ हो रहे अमानवीय व्यवहार को सामने ला दिया। इस खुलासे के बाद पुलिस प्रशासन के बीच हड़कंप मच गया है।सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस बालिका गृह से लड़कियों को रसूखदारों के घर भेजा जाता था। पटना से लेकर सभी शहरों में लड़कियां भेजी जाती थीं। खुलासे के बाद पता चला है कि यह बालिका गृह एक एनजीओ चलाता था जिसके मालिक का संपर्क एक राजनीतिक दल से भी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here