पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को यूरीन इंफेक्शन, थोड़ी देर में एम्स जारी करेगा मेडिकल बुलेटिन

0
59

पूर्व प्रधानमंत्री व वरिष्ठ भाजपा नेता अटल बिहारी वाजपेयी को नियमित जांच के लिए सोमवार को एम्स में भर्ती कराया गया है। वाजपेयी का हाल जानने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई नेता एम्स पहुंचे। 93 वर्षीय वाजपेयी की हालत स्थिर बताई जा रही है। थोड़ी देर में उनका मेडिकल बुलेटिन जारी होगा। जिसके बाद उन्हें आज (मंगलवार) एम्स से वापस घर लाया जाएगा।एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम वाजपेयी का स्वास्थ्य परीक्षण कर रही है। रात 8 बजे पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी एम्स में 50 मिनट तक रुके और डॉक्टरों से पूर्व प्रधानमंत्री के स्वास्थ्य की जानकारी ली।मोदी वाजपेयी के परिजनों से भी मिले। वाजपेयी का हाल जानने सबसे पहले दोपहर में राहुल गांधी पहुंचे थे। मोदी के दौरे के समय अस्पताल में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, विजय गोयल अनिल बलूनी समेत पार्टी के कई नेता मौजूद रहे। वहीं गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी भी पूर्व प्रधानमंत्री का हाल जानने अस्पताल पहुंचे। सूत्रों के अनुसार वाजपेयी को नियमित जांच के बाद शाम आठ बजे वापस आना था, लेकिन नेताओं के एम्स में जाने के कारण देर हो गई। इसलिए अब वे मंगलवार सुबह घर वापस आएंगे।एम्स ने बताया कि वाजपेयी को सांस लेने, यूरीन में संक्रमण और किडनी संबंधी परेशानी के बाद भर्ती कराया गया। पूर्व प्रधानमंत्री को आईसीयू में रखा गया है। जहां उनका डायलिसिस चल रहा है। अस्पताल की ओर से रात पौने ग्यारह बजे जारी स्वास्थ्य बुलेटिन में एम्स ने कहा है कि वाजपेयी को लोअर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन और किडनी संबंधी दिक्कतों के बाद भर्ती कराया गया। जांच में उन्हें यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन निकला है।वाजपेयी के परिजनों के अनुसार उनकी समय-समय पर नियमित जांच होती है। इसी सिलसिले में सोमवार को उन्हें एम्स लाया गया। भाजपा ने दोपहर में एक बयान जारी कर वाजपेयी को नियमित जांच के लिए एम्स ले जाने की जानकारी दी थी, ताकि कोई अटकलबाजी न हो। एम्स ने भी दिन में बुलेटिन जारी कर वाजपेई को रुटीन चेकअप और जांच के लिए एम्स लाए जाने की बात कही।पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी पिछले नौ साल से बीमार हैं। वाजपेयी को वर्ष 2009 में आघात लगा था। इसके बाद से उन्हें बोलने में समस्या होने लगी। इससे वह धीरे-धीरे सार्वजनिक जीवन से दूर होते चले गए।एम्स में वाजपेयी का इलाज डॉक्टर रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में किया जा रहा है। गुलेरिया पुलमोनोलॉजिस्ट है और वर्तमान में एम्स के निदेशक हैं। वाजपेयी की तस्वीर आखिरी बार 2015 में सामने आई थी। तब तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने वाजपेयी को घर जाकर भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here