ट्रंप ने चीन को 10% अतिरिक्त शुल्क लगाने की चेतावनी दी, ड्रैगन बोला – ब्लैकमेलिंग है यह

0
76

वाशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के 200 अरब डॉलर के सामान पर 10 प्रतिशत का अतिरिक्त शुल्क लगाने की चेतावनी दी है. ट्रंप ने कहा है कि यदि चीन अपने अनुचित व्यवहार में बदलाव नहीं लाएगा तो अमेरिका इस योजना पर आगे बढ़ेगा. वहीं चीन ने अमेरिका की इस योजना को ‘ब्लैकमेल’ करार देते हुए कहा है कि वह भी इसके जवाब में कदम उठाने को तैयार है. इससे पहले पिछले सप्ताह अमेरिका ने चीन के 50 अरब डॉलर के सामान पर 25 प्रतिशत का अतिरिक्त शुल्क लगाने की घोषणा की थी. चीन ने इसके जवाब में अमेरिका के 50 अरब डॉलर के 659 उत्पादों पर शुल्क लगाने की घोषणा की थी. दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में मतभेद लंबे समय से चल रहा है.

अब ट्रंप ने कहा है कि वह चीन द्वारा शुल्क बढ़ाए जाने के कदम के खिलाफ नए शुल्क लगाने जा रहे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कल बयान में कहा कि चीन के अनुचित व्यवहार को रोकने के लिए यह कार्रवाई की जा रही है. ट्रंप ने कहा कि उन्होंने अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइटाइजर से चीन से आयातित उन उत्पादों की दूसरी खेप की पहचान करने को कहा है जिन पर दस प्रतिशत का अतिरिक्त शुल्क लगाया जा सकता है. ट्रंप ने कहा कि यदि चीन अपने व्यवहार में बदलाव नहीं लाता है तो कानूनी प्रक्रिया को पूरा करने के बाद चीन के 200 अरब डॉलर के सामान पर अतिरिक्त शुल्क लगाया जाएगा. उन्होंने कहा कि चीन की ताजा कार्रवाई इस बात का संकेत है कि वह अमेरिका को स्थायी रूप से अनुचित नुकसान में रखना चाहता है. इस बात का पता वस्तुओं के 376 अरब डॉलर के व्यापार असंतुलन से चलता है. उन्होंने कहा कि इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता. हमें आगे और कार्रवाई करनी होगी. इससे चीन पर अपने अपने अनुचित व्यवहार में बदलाव लाने, अमेरिका के उत्पादों के लिए अपने बाजारों को खोलने और हमारे साथ संतुलित व्यापार संबंध कायम करने का दबाव पड़ेगा. लाइटाइजर ने भी राष्ट्रपति ट्रंप के इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस अनुचित व्यापार व्यवहार को समाप्त करने के बजाय चीन अनुचित शुल्क लगाने की मंशा रखता है. इससे पहले अमेरिका ने चीन के 50 अरब डॉलर के सामान या उत्पादों पर 25 प्रतिशत शुल्क लगाने की घोषणा की थी. इसके बाद चीन ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए अमेरिका के 50 अरब डॉलर के सामान पर 25 प्रतिशत शुल्क लगाने की घोषणा की थी.

वहीं, बीजिंग से मिली खबरों के अनुसार चीन ने अमेरिका द्वारा उसके 200 अरब डॉलर के उत्पादों पर 10 प्रतिशत का अतिरिक्त शुल्क लगाने की योजना को ब्लैकमेल करार दिया है. चीन के वाणिज्य मंत्रालय ने कहा कि अमेरिका द्वारा जो ब्लैकमेल और दबाव डालने का कदम उठाया जा रहा है वह दोनों पक्षों के बीच कई दौर की वार्ताओं के बाद बनी सहमति के रुख से उलट है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here