फीफा विश्व कप: आखिरी पलों में केन का गोल, इंग्लैंड ने ट्यूनीशिया को 2-1 से हराया

0
106

1966 की चैंपियन इंग्लिश टीम ने फीफा वर्ल्ड कप-2018 में अपने कप्तान हैरी केन के दो गोलों की मदद से ट्यूनीशिया को 2-1 से हराकर टूर्नमेंट में जोरदार शुरुआत की। फुल टाइम तक 1-1 से मुकाबला बराबरी पर था, लग रहा था कि ट्यूनीशिया इंग्लैंड को ड्रॉ पर मजबूर करने में सफल रहेगा। लेकिन, कप्तान केन को यह मंजूर नहीं था। उन्होंने मैच के आखिरी पलों में (इंजरी टाइम में) एक शानदार हेडर लगाते हुए गेंद ट्यूनीशिया की जाल में उलझा दिया। इसके साथ ही स्टेडियम में बैठे तमाम इंग्लिश फैंस जश्न में डूब गए। हारने वाली टीम के लिए इकलौता गोल फेर्जारी सासी के नाम रहा।

वोल्गोग्राद एरिना में सोमवार को खेले गए मुकाबले के पहले हाफ के सिर्फ दूसरे ही मिनट में इंग्लैंड के पास गोल का मौका था, लेकिन दिशाहीन शॉट से ऐसा हो नहीं सका। चौथे मिनट में भी इंग्लिश टीम ने गोल का मौका गंवाया। हालांकि, उसे पहले गोल के लिए अधिक देर इंतजार नहीं करना पड़ा। 11वें मिनट में इंग्लैंड के लिए पहला गोल कप्तान हैरी केन ने किया। केन के गोल से इंग्लैंड ने 1-0 से बढ़त हासिल कर ली। इसके साथ ही केन ने अपने रेकॉर्ड को बराकर रखा। वह जब भी इंग्लिश टीम में कप्तान के तौर पर खेले गोल जरूर किया। यह सिलसिला ट्यूनीशिया के खिलाफ भी जारी रहा।

9 नंबर की जर्सी पहनने वाले हैरी केन इस गोल के साथ ही पूर्व इंग्लिश फुटबॉलर एलन शियरर के रेकॉर्ड की बराबरी की। एलन ने फ्रांस में आयोजित विश्व कप-1998 में अपने डेब्यू वर्ल्ड कप मुकाबले में ही ट्यूनीशिया के खिलाफ गोल लगाया था। रोचक बात यह रही कि हैरी केन ने भी इसी टीम के खिलाफ गोल करते हुए उनके रेकॉर्ड की बराबरी की।

हालांकि, दूसरी आरे पहले हाफ में स्टार्लिंग और केन के सामने गेंद के लिए संघर्ष कर रही ट्यूनीशिया टीम के लिए पहला गोल फेर्जारी सासी ने 35वें मिनट में दागा। यह गोल पेनल्टी पर हुआ। दरअसल, इंग्लैंड के डिफेंडर केली वॉकर ने फखरेद्दीन बेन यूसुफ को पेनल्टी एरिया में हाथ मारकर गिरा दिया था वह भी रेफरी के सामने। इसलिए ट्यूनीशिया को पेनल्टी मिली। इसके साथ ही ट्यूनीशिया ने स्कोर 1-1 से इंग्लैंड के बराबर ला दिया।

दूसरे हाफ में इंग्लैंड को दो फ्री किक मिली, लेकिन उसके खिलाड़ी गोल नहीं कर सके। किएरन ट्रिप्पियर और यंग ने मौके गंवाए। इंजरी टाइम में इंग्लैंड के लिए दूसरा गोल कप्तान हेरी केन ने किया। उन्होंने एक सटीक पास पर हेडर लगाते हुए गेंद ट्यूनीशिया के गोल पोस्ट में डाल दिया। यह गोल 91वें मिनट में लगाया गया।

प्रदर्शन की बात करें तो इंग्लिश टीम ब्राजील में पिछले विश्व कप में ग्रुप चरण और यूरो 2016 में दूसरे राउंड में बाहर हो गई थी। उसके नाम एक वर्ल्ड कप खिताब है। दूसरी तरफ अगर, ट्यूनीशिया की बात करें तो टीम अपना 5वां विश्व कप खेल रही है, लेकिन वह कभी भी ग्रुप चरण से आगे नहीं बढ़ पाई है। ट्यूनीशिया ने 5 बार के अपने विश्व कप के 13 मुकाबलों में केवल एक बार जीत दर्ज की है। ट्यूनीशिया को यह जीत 1978 के विश्व कप में मेक्सिको के खिलाफ मिली थी। फुटबॉल के सबसे बड़े विश्व मंच पर किसी भी अफ्रीकी टीम की यह सबसे पहली जीत थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here