सुबह डोभाल से हुई शाह की मुलाकात, दोपहर तक कश्मीर में गिर गई सरकार

0
114

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर के मसले पर मंगलवार को राज्य के नेताओं की बड़ी बैठक बुलाई. शाह ने जम्मू-कश्मीर सरकार में शामिल पार्टी के सभी मंत्रियों और कुछ शीर्ष नेताओं को इस बैठक में बुलाया.

अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर के मसले पर जम्मू-कश्मीर के बीजेपी नेताओं के साथ मुलाकात के बाद PDP से गठबंधन तोड़ने का ऐलान कर दिया. इस बड़े फैसले से पहले अमित शाह ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल से भी विचार-विमर्श किया था.

बता दें, जम्मू-कश्मीर के हालात को लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने मंगलवार सुबह अमित शाह से मुलाकात की और वहीं के हालात की जानकारी दी. अमित शाह से मुलाकात के दौरान डोभाल ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में आतंकियों पर कार्रवाई के लिए किस तरह के प्लान बनाए गए हैं. डोभाल ने कहा कि घाटी में अब आतंकियों के खिलाफ बड़े पैमाने पर एक्शन के लिए रोडमैप तैयार किया गया है.

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार की मानें तो महीने भर तक संघर्षविराम के बाद अब आतंकियों के खिलाफ सेना नई ऊर्जा के साथ मुस्तैद है. उन्होंने बताया कि घाटी में शांति के लिए सेना और सरकार सभी पहलुओं पर काम कर रही है. वार्ताकारों के जरिये घाटी के आम लोगों तक पहुंचने की कोशिश भी की जा रही है, ताकि उन्हें विश्वास में लिया जा सके.

सूत्रों की मानें तो जम्मू-कश्मीर मसले को लेकर अमित शाह गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्री द्वारा आक्रामक कार्रवाई शुरू करने से पहले जम्मू कश्मीर मंत्रिमंडल में शामिल पार्टी के सभी मंत्रियों की राय लेना चाहते हैं.

गौरतलब है कि पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के सुरक्षा हालात पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की. बैठक में रमजान के दौरान आतंकवादियों के खिलाफ स्थगित अभियान की अवधि की समीक्षा की गई थी. खबरों के मुताबिक बैठक गृह मंत्री ने पीएम को वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या समेत हाल में हुई हत्याओं के मद्देनजर कश्मीर घाटी की सुरक्षा स्थिति की जानकारी दी.

गौरतलब है कि कश्मीर घाटी में इस साल 55 से अधिक आतंकवादी और 27 स्थानीय लोग मारे जा चुके हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here