अंतर्राष्ट्रीय योगा दिवस: बिहार में अलग हुए भाजपा और जदयू के सुर-ताल

0
65

पटना [जेएनएन]। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए जहां बिहार में भाजपा नेता उत्साहित हैं और लोगों से अपील कर रहे हैं कि सबलोग इस दिन पर एक साथ मिलकर योग करें। लेकिन इसके लिए जदयू ने मनाही कर दी है और इस दिन से खुद को दरकिनार करते हुए कहा है कि योग लोगों की अपनी व्यक्तिगत चाहत होती है और हम घर में ही करते हैं, इसे पब्लिकली प्रचारित करने की जरूरत नहीं।बता दें कि भाजपा नेता कल यानि 21 जून को राजधानी पटना सहित राज्य के विभिन्न हिस्सों में योग दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होंगे और आमजन के साथ योगाभ्यास करेंगे। इसके लिए जोर-शोर से तैयारियां चल रही हैं। वहीं बिहार में भाजपा के साथ सरकार चला रही जदयू ने योग दिवस से खुद को अलग कर लिया है।21 जून के योग दिवस के मौके पर सबको साथ आने की अपील करते हुए मंत्री नंदकिशोर यादव ने कहा है कि सभी को योग करने की जरूत है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोेदी ने इसे जन-जन तक पहुंचाया है। इसमें सभी लोगों को साथ आने की जरूरत है।तो वहीं, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ट नारायण सिंह ने कहा है कि योग को किसी के पार्टिसिपेशन से नहीं जोड़ना चाहिए, इसे तो लोग अपने घरों में भी करते हैं। योग हमारे देश की संस्कृति का एक अंग रहा है और योग शिविर में तो सीमित संख्या में लोग जाते हैं।
बता दें कि कि ये पहली बार नहीं है। जदयू ने पिछले साल भी इससे दूरी बनाए रखी थी। पिछले साल ही नहीं बल्कि पिछले तीन साल से वो इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो रहा। लेकिन इस बार बिहार में एनडीए की सरकार है और भाजपा-जदयू एकसाथ सरकार में शामिल हैं। इसके बावजूद जदयू ने इस कार्यक्रम में भाजपा का साथ नहीं दिया है।इसपर जदयू नेता नीरज कुमार ने कहा है कि योग दिवस के नाम पर दिखावा और राजनीति नहीं करनी चाहिए। ये लोगों का अपना व्यक्तिगत निर्णय होता है कि वो योगा करें या ना करें। हम घर में योगाभ्यास करते हैं। मुख्यमंत्री जी भी नियमित योग करते हैं, लेकिन इसका प्रदर्शन क्यों करना? योग हमारे मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए जरूरी है और बिहार ने तो लोगों को योग सिखाया है। इसका सार्वजिनक स्थलों पर प्रकटीकरण करना सही नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here