17 वर्षीय लड़की ने पुलिस बुलवाकर रुकवाया निकाह, जानिए क्यों

0
128

अलवर में 17 वर्षीय मुस्लिम लड़की ने पुलिस को बुलाकर अपना निकाह रद्द करवाया। लड़की ने पुलिस को बताया कि उसका निकाह जबरदस्ती और उसकी मर्जी के बिना करवाया जा रहा है। हालांकि मुस्लिम विवाह कानून के तहत लड़की बालिग है।रवन्ना बानो का निकाह 24 जून को होना था। लक्ष्मणगढ़ निवासी रवन्ना अकबरुद्दीन खान और अकबरी की सबसे बड़ी संतान है। उसने निकाह से पूर्व होने वाले रीति-रिवाजों और समारोह के दौरान पुलिस को बुलाकर कहा कि वह अभी निकाह नहीं करना चाहती और आगे पढ़ना चाहती है।लक्ष्मणगढ़ पुलिस स्टेशन के एसएचओ राम स्वरुप ने बताया कि, ‘रवन्ना ने अलवर पुलिस नियंत्रण कक्ष में फोन करके कहा कि वह अभी नाबालिग है और अगर उसकी शादी नहीं रुकवाई गई तो वह आत्महत्या कर लेगी। जिसके बाद हमने तत्काल बिना देरी करते हुए लड़की के घर पहुंचकर दोनों परिवार को समझाया और थोड़ी देर बाद वह हमारी बात मान गए।’ उन्होंने आगे कहा कि, पुलिस के लिए भी ये मामला दिलचस्प था, क्योंकि मुस्लिम कानून के अनुसार 16 वर्ष की उम्र के बाद लड़की को बालिग और निकाह के लिए योग्य समझा जाता है। इसलिए हम उसे नाबालिग नहीं समझकर कार्यवाही नहीं कर सकते थे। चूंकि लड़की बलपूर्वक निकाह की बात कह रही थी, इसलिए हमें हस्तक्षेप करना पड़ा। हालांकि लड़की के घर में रहने से इंकार करने के बाद, हमने उसे सरकारी महिला घर भेज दिया।इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए, राजस्थान राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने कहा कि, “हमारी स्थानीय टीम ने हमें इस मामले के बारे में जानकारी दी। अगर लड़की आगे पढ़ना चाहती है, तो उसे समर्थन और प्रोत्साहित किया जाएगा। हम यह सुनिश्चित करने के लिए एक निगरानी प्रणाली भी बनाएंगे कि उसकी इच्छाओं का सम्मान किया जाए।” रवन्ना एक पूर्वस्नातक कॉलेज में दूसरे वर्ष की छात्रा है। वह आगे पढ़ाई करके खुद के लिए एक करियर बनाना चाहती है। रवन्ना के पिता अकबरुद्दीन खान एक सेवानिवृत्त शिक्षक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here