झारखंडः लातेहार में नक्सलियों के सुरंग में विस्फोट से 7 जवान शहीद, 4 घायल

0
202

झारखंड के लातेहार और गढ़वा जिले की सीमा पर स्थित बूढ़ापहाड़ इलाके में भाकपा माओवादियों के खिलाफ अभियान के दौरान सुरक्षाबलों के सात जवान शहीद हो गए जबकि चार घायल हैं। मंगलवार की देर शाम झारखंड जगुआर के 112 बटालियन और झारखंड जगुआर के एसाल्ट ग्रुप 40 के जवान अभियान खत्म कर बूढ़ापहाड़ से उतर रहे थे।सूत्रों के मुताबिक, पहाड़ से उतरने के दौरान ही खपरी महुआ नामक स्थान के पास तुरेर में भाकपा माओवादियों द्वारा लगाई बारूदी सुरंग में विस्फोट हो गया। इस विस्फोट में सात जवानों के शहीद होने की सूचना है। बताया जाता है कि इस दौरान पुलिस और नक्सलियों में मुठभेड़ हुई है। दोनों तरफ से जमकर फायरिंग हुई। नक्सली शहीद जवानों के हथियार भी लूट ले गए।बारुदी सुरंग विस्फोट में सात जवानों की मौत की सूचना राज्य पुलिस मुख्यालय को मिली है। हालांकि रात होने की वजह से खबर लिखे जाने तक पुलिस घटनास्थल पर नहीं पहुंच पायी है। बताया जा रहा कि सभी शव अत्यंत क्षत-विक्षत अवस्था में हैं।बूढ़ा पहाड़ में ऑपरेशन का नेतृत्व झारखंड जगुआर में प्रतिनियुक्त डिप्टी कमांडेंट स्तर के अधिकारी कर रहे थे। घटना की सूचना मिलने के बाद पलामू, लातेहार, गढ़वा के पुलिस अधिकारियों के मौके पर निकलने की भी सूचना है। पुलिस मुख्यालय के स्तर पर बड़े अधिकारियों ने जवानों के मौत की पुष्टि की है, लेकिन अधिकारी खुले तौर पर कुछ कहने से बच रहे हैं।बूढ़ापहाड़ पर भाकपा माओवादी विश्वनाथ उर्फ संतोष ने विस्फोटकों से पूरी घेराबंदी की थी। आंध्रप्रदेश का विश्वनाथ बीते दो साल पहले झारखंड आया था। सुधाकरण का खास सहयोगी विश्वनाथ बारुदी सुरंग बनाने में माहिर माना जाता है। एक करोड़ का इनामी अरविंद जब बूढ़ापहाड़ पर था, तब पुलिस ने उसे दबोचने के लिए अभियान चलाया था। तभी विश्वनाथ द्वारा बारूदी सुरंग से बूढ़ापहाड़ की घेराबंदी की गई थी। पूर्व में बूढ़ापहाड़ में बारुदी सुरंग बिस्फोट में पुलिसकर्मी जख्मी भी हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.