प्रधानमंत्री मोदी ने मगहर में कबीरवाणी से तैयार की यूपी में सियासी जमीन

0
104

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को संतकबीर की निर्वाणस्थली से यूपी में भाजपा के लिए सियासी जमीन तैयार कर दी। यूपी में महागठबंधन का नाम लिए बगैर सपा और बसपा के साथ कांग्रेस पर हमला बोला। पीएम ने कहा कि उनकी सरकार को गरीबों के आवास की चिंता है जबकि उन्हें (विपक्ष) अपने बंगलों की। वह कबीर साहिब के आदर्शों चलते हुए शांति और विकास की बात करते हैं जबकि विपक्ष कलह और असंतोष का माहौल बनाने में लगा है। पीएम ने कबीर के राम को आदर्श बताया तो कलाम साहब के सपने को पूरा करने का संकल्प लिया।पीएम ने संत कबीर के साथ गुरुनानक देव और गुरु गोरक्षनाथ के साथ कबीर के आदर्श राजा राम के साथ ही संत रैदास, महात्मा ज्योतिबका फूले, महात्मा गांधी और बाबा साहेब आंबेडकर का जिक्र करते हुए दलितों, वंचितों, शोषितों और महिलाओं के साथ नौजवानों को लुभाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। मंच पर पहुंचते ही भीड़ देख गदगद पीएम ने जब संबोधन शुरू किया तो भीड़ ने भी जबर्दस्त उत्साह दिखाया। भोजपुरी में नमस्कार और साहिब बंदगी से शुरुआत की तो मोदी-मोदी गूंज उठा। फिर उन्होंने भोजपुरी में ही बात बढ़ाई तो माहौल उत्साह से भर गया। इसके बाद उन्होंने संत कबीर को केंद्र में रखते हुए उत्तर से दक्षिण और पूरब से पश्चिम तक सामाजिक समता और रुढ़ियों को तोड़ने वाले संतों का जिक्र करते हुए अपनी सरकार के नारे ‘सबका साथ सबका विकास’ को इन संतों के दर्शन से जोड़ा।पीएम मोदी ने सपा-बसपा के गठबंधन पर हमला करते हुए कहा कि कि संत कबीर कर्मयोगी थे। वह समाज को सशक्त बनाना चाहते थे, याचक नहीं। इसके बाद संत रैदास, महात्मा फूले, महात्मा गांधी आए। सबका जोर समाज का विकास रहा। बाबा साहेब ने देश के संविधान में सबको बराबरी का अधिकार दिया, लेकिन दुर्भाग्य से इनके नाम पर राजनीति करने वाली धारा समाज को तोड़ने का प्रयास कर रही है। कबीर और उनके दोहों का जिक्र करते हुए पीएम कहा कि कुछ दलों को राजनीतिक लाभ के लिए विकास का हरि नहीं चाहिए, उन्हें कलह और असंतोष चाहिए। ऐसे लोग जमीन से कट चुके हैं। उन्होंने अंदाजा नहीं है कि संत कबीर, संत रैदास और बाबा साहेब को मानने वाले क्या सोचते हैं। पीएम ने कहा कि अपने लोगों से मन लगाओ विकास का हरि मिल जाएगा लेकिन उनका मन तो बंगलों में लगा हुआ है।पीएम मोदी ने हाल में बंगला प्रकरण को लेकर चर्चा में रहे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का नाम लिए बगैर उन्हें और उनकी सरकार पर हमला बोला। कहा कि पहले की सरकार ने गरीबों के घर की योजना में रुचि ही नहीं ली। केंद्र ने कई चिट्टियां लिखीं लेकिन उन्होंने इतनी भी जरूरत नहीं समझी कि बता दें यूपी में गरीबों के लिए कितना घर चाहिए। उनका मन बंगलों में ही लगा रहा।पीएम ने कहा कि एक साल में प्रदेश की योगी सरकार ने गरीबों के घर निर्माण में रिकॉर्ड बना दिया। उन्होंने कहा यूपी में 80 लाख दलित और गरीब महिलाओं को उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त रसोई गैस कनेक्श मिला। पौने दो करोड़ लोगों को एक रुपये महीने के प्रीमियम पर बीमा का सुरक्षा कवच मिला।पीएम मोदी ने कहा कि कबीर काम में विश्वास करते थे, राम में विश्वास करते थे। कबीर दर्शन से अपनी सरकार को जोड़ते हुए कहा कि विकास योजनाओं पर तेजी से काम, दोगुनी रफ्तार से हाईवे का निर्माण, एयरपोर्ट नेटवर्क का विस्तार, हर पंचायत तक इंटरनेट, गरीबों के लिए घर निर्माण कबीर मार्ग का ही प्रतिबिंब है। सबका साथ सबका विकास कबीर की ही तो भावना है।पीएम मोदी ने कहा कि 15 साल पहले निर्वाण स्थली पर राष्ट्रपति डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम आए थे। उन्होंने यहां सपना देखा था। उनके सपने को साकार करेंगे। निर्वाणस्थली को विकसित करने के लिए तेज गति से काम करेंगे। स्वदेश दर्शन योजना के तहत रामायण सर्किट, बौद्ध सर्किट और सूफी सर्किट को विकसित करने का काम हो रहा है।पीएम मोदी ने कहा कि श्रमजीवी कबीर मानवता की बात करते हैं। विश्वबंधुत्व की बात करते हैं। परस्पर प्रेम की बात करते हैं। कबीर को आचरण में उतारकर ही न्यू इंडिया बनाया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here