2019 लोकसभा चुनाव के लिए कई राज्यों के प्रभारियों में बदलाव करेगी भाजपा

0
58

लोकसभा चुनाव की तैयारी के मद्देनजर भाजपा कई राज्यों के प्रभारियों में बदलाव करेगी। पार्टी संसद के मानसून सत्र के पहले नेतृत्व लोकसभा चुनावों की तैयारियों का पहला चरण पूरा कर लेगी।भाजपा अध्यक्ष अमित शाह सभी राज्यों के चुनावी कोर ग्रुप (टोली) के साथ बैठकें कर रहे हैं। अभी तक 12 राज्यों के साथ बैठकें कर चुके शाह 4-5 जुलाई को लऊनऊ, 11 जुलाई को पटना व 12 जुलाई को रांची में चुनावी तैयारियों की समीक्षा बैठकें करेंगे। 14 जुलाई तक सभी राज्यों की समीक्षा बैठकें कर ली जाएंगी। इसके साथ ही पार्टी जल्द ही उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश व राजस्थान समेत कई राज्यों के संगठन प्रभारियों में बदलाव करेगी। राज्यों की चुनावी टीम के साथ बैठकें करने के बाद पार्टी हर राज्य के चुनाव प्रभारियों की तैनाती कर देगी। हर राज्य के लिए दो चुनाव प्रभारी होंगे जिनमें एक केंद्रीय मंत्री और एक संगठन पदाधिकारी शामिल रहेगा।कुछ राज्यों में संगठन प्रभारियों में भी बदलाव किया जाएगा। उत्तर प्रदेश में मौजूदा प्रभारी ओम माथुर, मध्य प्रदेश के प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्दे व राजस्थान के प्रभारी अविनाश राय खन्ना को दूसरी जिम्मेदारियां मिल सकती है। इन राज्यों में नए प्रभारी बनाए जा सकते हैं। महासचिव भूपेंद्र यादव, अनिल जैन, राम माधव व राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी को भी अलग-अलग राज्यों में संगठनात्मक व चुनाव प्रभारियों की जिम्मेदारी दी जा सकती है।संसद के मानसून सत्र के दौरान लोकसभा के सभी सांसदों के अब तक रिपोर्ट कार्ड को लेकर पार्टी अंदरूनी विचार विमर्श करेगी। उम्मीदवारों के चयन में जल्दी नहीं की जाएगी, लेकिन पूर्वोत्तर के कुछ राज्य व कोरोमंडल राज्यों में पार्टी उम्मीदवारों के चयन में जल्दी करेगी। कई सीटों में चयनित नेताओं को बिना नाम घोषित किए चुनावी तैयारी करने को कहा जा सकता है।राज्यों के बाद जिला स्तरों व लोकसभा सीटों पर मौजूदा कोर ग्रुपों को चुनावी टोली बना दिया जाएगा, जहां नहीं है, वहां पर नई बनाई जाएंगी। पार्टी के एक प्रमुख नेता ने कहा है कि विधानसभा चुनाव वाले राज्यों को छोड़कर अन्य राज्यों में लोकसभा चुनावों की तैयारी का काम शुरू हो चुका है। अगले एक माह में यह जिला व मंडल स्तर पर प्रभावी हो जाएगा। भाजपा का लक्ष्य हर बूथ पर चुनावी टोली बनाना और अर्ध पन्ना प्रमुख (मतदाता सूची के आधे की जिम्मेदारी) को सक्रिय करने का है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here