FIFA 2018: पहले ही राउंड में टूट गया वर्ल्ड कप इतिहास का ये बड़ा रिकॉर्ड!

0
77

रूस में जारी फीफा वर्ल्ड कप का खुमार तेजी से दुनियाभर में छा गया है। वर्ल्ड की ग्रुप स्टेज अपनी आखिरी दौर में पहुंच चुकी है, लेकिन अभी से वर्ल्ड कप के कई ऐतिहासिक रिकॉर्ड टूटने लगे हैं। नॉकआउट स्टेज शुरू होने से पहले ही अब तक टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा आत्मघाती गोल यानि ‘Self Goal’ का रिकॉर्ड टूट चुका है।इस विश्व कप में अभी तक कुल आठ आत्मघाती गोल हो चुके हैं जो किसी भी फीफा विश्व कप में सबसे ज्यादा हैं। इन गोलों की संख्या और बढ़ सकती है क्योंकि अभी प्री-क्वार्टर फाइनल, क्वार्टर फाइनल, सेमीफाइनल और फाइनल बाकी हैं। इससे पहले फ्रांस में 1998 में खेले विश्व कप में सबसे ज्यादा पांच आत्मघाती गोल हुए थे।इस विश्व कप का पहला आत्मघाती गोल ग्रुप-बी में मोरक्को और ईरान के बीच हुए मैच में मोरक्को के अजिज बोउहादोज ने अपने ही नेट में गेंद को डाल ईरान को जीत तोहेफ में दे दी थी। इसके बाद 16 जून को ग्रुप-सी में फ्रांस और आस्ट्रेलिया के बीच खेले गए मैच में आस्ट्रेलिया के अजीज बेहिच ने आत्मघाती गोल कर फ्रांस को 2-1 से जीत दे दी थी। फिर ग्रुप-डी में नाइजीरिया और क्रोएशिया के बीच खेले गए मैच में नाइजीरिया के ओगेनकारो इटेबो ने गोल कर क्रोएशिया को 1-0 से आगे करवा दिया था। इसके बाद ग्रुप-एच में पोलैंड और सेनेगल के बीच टूनार्मेंट का चौथा आत्मघाती गोल हुआ था जब पोलैंड के थियागो सियोनेक ने अपने ही नेट में गेंद डाल सेनेगल को गोल का तोहफा दिया था।फिर एक और मैच में ग्रुप-ए में मिस्र के अहमद फतेही ने गेंद को गोल से दूर भेजने के प्रयास में गेंद को नेट में ही डाल दिया था। फिर रूस के डेनिस चेरिशेव ने 23वें मिनट में अपने ही पाले में गेंद डाल उरुग्वे को 2-0 से आगे कर दिया था। हाल ही में बुधवार को स्वीडन और मेक्सिको के बीच हुए ग्रुप-एफ के मैच में मेक्सिको के अल्वारेज ने 74वें मिनट में आत्घाती गोल कर स्वीडन के खाते में इस मैच में तीसरा गोल दागा। बुधवार को ही ग्रुप-ई के मैच में स्विट्जरलैंड और कोस्टा रिका का मैच 2-2 से बराबर रहा। इस ड्रॉ का कारण भी आत्मघाती गोल था जो 93वें मिनट में हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here