लोगों ने देखा तो रह गए दंग, बिना इंजन के भागी जा रही थी जयनगर-पुरी एक्सप्रेस

0
198

जयनगर से पुरी जाने वाली जयनगर-पुरी एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त होने से बच गई। कपलिंग के खुल जाने से इंजन बोगियों को छोड़ भागने लगा और बोगियां उसके पीछे-पीछे दौड़ती रहीं।
मधुबनी । शनिवार की सुबह 5:10 बजे जयनगर से पुरी जाने वाली जयनगर-पुरी एक्सप्रेस खजौली रेलवे स्टेशन के निकट एक बड़े हादसे का शिकार होने से बची। ट्रेन के इंजन और बोगियों के बीच का ज्वाइंट(कपलिंग) अचानक खुल गया। इस वजह से करीब ढाई किमी तक इंजन चलते हुए डिब्बों को छोड़ पटरी पर दौड़ता रहा। ये नजारा देखकर लोग हैरान रह गए जब बिना इंजन के ट्रेन के डिब्बे पटरी पर दौड़ते रहे। ड्राइवर ने बोगी और इंजन में टक्कर ना हो जाए क्योंकि दोनों पटरी पर अलग-अलग दौड़ रही थीं और बोगी में खतरे से अंजान यात्री बैठे हुए थे। ड्राइवर ने खतरे को भांप सूझबूझ का परिचय दिया और इंजन को तेज रफ्तार में भगाते हुए डिब्बों से पहले सीधे खजौली रेलवे स्टेशन पर लाकर रोक दिया। इंजन के रूकने के बाद जब इसकी जानकारी ड्राइवर ने दी तबतक पीछे की सभी बोगियां खजौली रेलवे स्टेशन से करीब आधी किलोमीटर उत्तर आउटर सिग्नल के निकट बेहटा गांव के पास आकर अपनेआप रुक गईं थीं। इस तरह एक बड़ा हादसा टल गया। बिना इंजन के ट्रेन के रुकते ही आसपास के लोग बड़ी संख्या में वहां जमा हो गए। बोगियों में बैठे यात्री भी जल्दबाजी में बाहर निकले और तब जाकर उन्हें भी मामले की जानकारी मिली। सुबह का समय होने के कारण सभी यात्री निश्चिन्त होकर अपनी बोगी में बैठे थे। किन्तु वास्तविकता की जानकारी पाकर सभी स्तब्ध रह गए। करीब घंटे भर खजौली रेलवे स्टेशन पर अफरातफरी का माहौल बना रहा। आउटर सिग्नल के पास रुकी बोगियों और स्टेशन के बीच विभागीय कर्मियों व लोगों का आनाजाना लगा रहा। इस दौरान स्टेशन की पास की तीनों रेल गुमटियां (रेलवे क्रासिंग) बन्द रही। वहां वाहनों की लंबी कतारें लग गई। स्थानीय स्टेशन अधीक्षक द्वारा विभागीय उच्चाधिकारियों से निर्देश प्राप्त कर रेल इंजन को स्टेशन से वापस भेजा गया और उसे बोगियों से जोड़ा गया। करीब एक घंटे बाद ट्रेन यहां से अगले स्टेशन के लिए बढ़ी। इस बाबत पूछे जाने पर स्टेशन अधीक्षक अवधेश कुमार ने बताया कि संभवतः गुमटी नम्बर 28 के पास इंजन व बोगियों की ज्वाइंट (कपलिंग) खुल गई थी। हालांकि, इस घटना में कोई इसमें हताहत नही हुआ। करीब 40 मिनट बाद सबकुछ दुरुस्त कर ट्रेन को विदा कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here