दिल्ली: घर में मिली डायरी के बाद बुराड़ी में एक साथ 11 लाश मिलने का राज और गहराया

0
107

राजधानी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में संत नगर के एक घर में रविवार को एक साथ 11 लोगों की सामूहिक हत्या से सनसनी फैल गई है। मरने वालों में से नौ की आंखों पर पट्टी बंधी थी और वे घर की पहली मंजिल पर लॉबी के जाल से लटके हुए थे। एक महिला का शव कमरे के गेट से लटका हुआ था, जबकि बुजुर्ग महिला का शव जमीन पर अलग कमरे में पड़ा था। पुलिस को काले जादू के चक्कर में हत्या का अंदेशा है। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर जांच आरंभ कर दी है। जांच में क्राइम ब्रांच को भी लगाया गया है। घर की सबसे बुजुर्ग सदस्य 75 वर्षीय महिला नारायणी देवी भाटिया की गला दबाकर हत्या की गई है। वहीं अन्य मृतकों में नारायणी की 60 साल की विधवा बेटी प्रतिभा, प्रतिभा की 30 साल की बेटी प्रियंका, बेटा 46 वर्षीय भूपेंद्र उर्फ भूपी, उसकी पत्नी 42 वर्षीय सविता, भूपी की 24 वर्षीय बेटी नीतू, छोटी बेटी 22 वर्षीय मीनू, सबसे छोटा बेटा 12 वर्षीय धीरू, नारायणी देवी का छोटा बेटा 42 वर्षीय ललित, ललित की पत्नी 38 वर्षीय टीना, ललित का 12 साल का बेटा शिवम शामिल हैं। मामले की जांच कर रही टीम के मुखिया और एडिशनल डीसीपी विनीत कुमार कहना है कि हम सभी कोणों से जांच कर रहे हैं। जांच अभी प्रारंभिक स्तर पर है, इसलिए अभी किसी निष्कर्ष पर पहुंचना जल्दबाजी होगी। हम हत्या के पहलू से ही मामले की जांच कर रहे हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के सही कारणों का खुलासा हो पाएगा। पुलिस आसपास के सीसीटीवी कैमरों को भी खंगाल रही है।भाटिया परिवार की मुहल्ले में किराना की दुकान थी जो हर रोज सुबह 6 बजे ही
खुल जाती थी। सुबह साढ़े सात बजे तक दुकान नहीं खुलने पर एक पड़ोसी गुरचण सिंह परिवार को देखने गए। अंदर घुसते ही दरवाजा खुला मिला। आगे बढ़े तो भयानक मंजर देखकर सहम गए। तत्काल पड़ोसी ने पुलिस सूचना दी। फॉरेंसिक और क्राइम टीम ने घटनास्थल से जांच के लिए नमूने लिए हैं। जांच में जिला पुलिस की करीब 150 पुलिसकर्मियों की 10 टीम को लगाया गया है। क्राइम ब्रांच और स्पेशल सेल की टीम भी अपने-अपने स्तर पर जांच कर रही है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घटनास्थल पर पहुंच कर जायजा लिया और भाटिया परिवार के रिश्तेदारों व जानकारों से मुकाकात की। साथ ही पुलिस टीम से भी जांच के बारे में जानकारी ली। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने मृतकों के नजदीकी लोगों से मुलाकात कर उनका ढांढस बंधाया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीसी चाको, एके वालिया, जयप्रकाश अग्रवाल, इलाके के विधायक संजीव झा भी मौके पर पहुंचे।भाटिया परिवार मूलरूप से राजस्थान का रहने वाला था। दस साल तक हरियाणा के टोहना इलाके में रहने के बाद करीब 22 साल पहले बुराड़ी इलाके में रहने के लिए आया था। बुजुर्ग महिला नारायणी देवी भाटिया के दो बेटे यहां रहते थे। एक बेटा राशन की दुकान चलाता था, जबकि दूसरे की प्लाईवुड की दुकान थी। नारायणी देवी का तीसरा बेटा दिनेश सिविल कांट्रैक्टर है और वह चित्तौड़गढ़ में रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here